क्लिक कर जानिए ! किसने सिखाया दुनिया को लिखना और पढना

7417
दोस्तों जब से कंप्यूटर आया है तब से दुनिया ने कुछ वास्तविकताओ को स्वीकार करना शुरू कर दिया है जिनमे से एक है कि सबसे पहली भाषा और सबसे पहली लिपि अगर दुनिया को किसी ने दी है तो वो भारत ने दी है. लिपि को आप सब समझते ही होंगे, जिसमे भाषा लिखी जाती है उसको लिपि कहते है जिसको हम लिखकर व्यक्त कर सकते है भाषा जो पूरी दुनिया में फैली वो संस्कृत है और लिपि जो हमने पुरे विश्व को दी है वो देवनागरी है लेकिन भारत में कई ऐसे इतिहासकार हुए है जिनका ये कहना है कि देवनागरी से पहले भी हमने एक लिपि दी है जो अब हमारी लापरवाही के कारण लुप्त हो गई है और वो है ब्रह्माणी लिपि है
सारी जानकारी लिख पाना असंभव है ये विडियो देखिए >>

ब्राह्मणी लिपि के बारे में पूरी दुनिया के वैज्ञानिको ने जो एक बात स्वीकार की है वो ये है कि ब्रह्मणी लिपि उतनी ही पुरानी है जितना पुराना भारत है और हमारा भारत कई अरबो साल पुराना है अब समस्या ये उत्पन हो गई है कि इतनी पुरानी ब्राह्मणी लिपि को पढने और समझने वाले वैज्ञानिको की संख्या अभी नहीं है बहुत थोड़े वैज्ञानिक रहे है जो लिपि वैज्ञानिक मने जाते है जो भाषा को पढ़कर उसका अर्थ समझा सकते है और ये सब लिपि वैज्ञानिक मानते है कि अगर दुनिया को लिखना किसी ने सिखाया है तो भारत ने ही सिखाया है क्योकि भारत से पहले लिखने की कला किसी देश को नहीं आती थी| आप तभी कुछ लिख सकते है जब आपके पास लिपि होती है पढना और बोलना थोडा आसान होता है लेकिन लिखना कठिन माना जाता है जोकि लिपि के प्रभाव से ही होता है

इस पोस्ट को सुनने के लिये ऑडियो सुने

जैसा कि अपने पढ़ा और विडियो में राजीव भाई से सुना कि सबसे पहले लिखना हमें आया हमारे बाद लिखने की कला यानी लिपि भारत से चीन में गई और चीन ने हमसे लिखना सिखा| चीन में जो पिछले कुछ हजारो साल से लिपि वैज्ञानिक हुए है वो ईमानदारी से इस बात को स्वीकार करते है कि चीन के वैज्ञानिक और ऋषि मुनि भारत आये, उन्होंने लिपियों का अध्यन किया और वापिस चीन जाकर उन्होंने अपनी लिपियों का अविष्कार किया

पूरा पोस्ट पढने के लिये धन्यवाद

ज्यादा से ज्यादा शेयर करे

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने  Whatsapp और  Facebook पर शेयर करें