मलेशिया में कैडबरी चॉकलेट का बहिष्कार ! कम्पनी के उड़े तोते

22745

मलेशिया में इस्लामी संगठनों ने कैडबरी के चॉकलेटों का बहिष्कार शुरू कर दिया है। कैडबरी के दो चॉकलेट बार्स में सूअर का डीएनए पाए जाने के बाद यह कदम उठाया गया है। यह जानकारी क्षेत्रीय टीवी चैनल ने गुरुवार को दी। इस्लामिक इन्फार्मेशन एंड सर्विस फाउंडेशन के महासचिव साबरियाह अब्दुल्ला ने कहा, कैडबरी को बंद हो जाना चाहिए। उसे इस गलती सजा भुगतनी होगी। हम मानते हैं कि लोगों का गुस्सा जायज है। साबरियाह ने आगे कहा, “हम सिंगापुर, इंडोनेशिया और ब्रुनेई के सभी मुस्लिमों से बेचे जाने वाले सभी चॉकलेटों की जांच करने का आग्रह करते हैं। कैडबरी पर हमारी तरह भरोसा नहीं करें। यहां तक कि मलेशिया के कुछ मुस्लिमो ने कान्फेक्शनरी कारोबार में दबदबा रखने वाली कंपनी के लंदन स्थित मुख्यालय को रक्त शुद्धि का खर्च उठाने के लिए कहा है।

कैडबरी मलेशिया का परमिट निलंबित किया जा चुका है। उसने कहा है कि उसकी प्राथमिकता यह पता करना है कि आखिर हुआ क्या क्योंकि उसने मलेशिया इस्लामिक डेवलपमेंट डिपार्टमेंट से यह गारंटी हासिल करने के लिए कि कंपनी सभी जरूरतों को पूरा करती है, साझीदारी की थी।

इस मामले के सामने आने के बाद मुस्लिम व्यापारियों और उपभोक्ता देश भर में कैडबरी का बहिष्कार कर रहे हैं. दरअसल मलेशिया और अन्य इस्लामी देशों में खाने पीने की चीजों का नियमित रूप से टेस्ट होता रहता है ताकि इस बात को सुनिश्चित किया जा सके कि खाद्य उत्पाद हलाल हैं. इसी तरह के टेस्ट में पाया गया कि कैडबरी की दो चॉकलेट नियमों का उल्लंघन कर रही हैं. इस बात के सामने आने के बाद कंपनी को बाजार से सभी चॉकलेट वापस लेनी पड़ी हैं. जानकारों का मानना है कि इस मामले से आसपास के देशों में भी कैडबरी की बिक्री पर असर पड़ेगा. खास तौर से इंडोनेशिया में कैडबरी को भरी नुकसान उठाना पड़ सकता है क्योंकि वहां की ज्यादातर आबादी मुस्लिम है.

मलेशिया में 800 स्टोर कैडबरी का बहिष्कार कर रहे हैं और वे चॉकलेट के अलावा ओरियो कुकीज और रिट्स क्रैकर्स को भी दुकान में रखने से मना कर चुके हैं. मलेशिया की मुस्लिम कंज्यूमर्स एसोसिएशन के शेख अब्दुल करीम खदाइद ने क्वालालंपूर में प्रेस कॉन्फरेंस में कहा, “इससे मलेशिया की सभी कंपनियों को सीख मिलेगी कि देश में उत्पादों को ले कर संवेदनशीलता को समझें.” उन्होंने कहा कि कंपनी को अपनी गलती के लिए माफी मांगनी चाहिए थी और आदेश मिलने से पहले खुद ही सभी उत्पाद बाजार से हटा लेने चाहिए थे.

वहीं कैडबरी का कहना है कि वह देश में इस्लामी मामलों के विभाग के साथ मिल कर काम कर रहा है और इस बात पर ध्यान दे रहा है कि उत्पाद हलाल नियमों के अनुसार ही बनें. कंपनी ने कहा कि नए टेस्ट किए जा रहे हैं और उम्मीद है कि हफ्ते भर में नतीजे आ जाएंगे. हालांकि कैडबरी मलेशिया की प्रवक्ता ने देश में चल रहे बहिष्कार पर कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है.!

हमारे देश का भांड मीडिया और सरकार इन मामलो पर पूरी तरह चुप है क्योंकि मीडिया विदेशी कंपनियो के विज्ञापनो का गुलाम है ! उनकी सारी कमाई इन्ही विदेशी कंपनियो के विज्ञापन से होती है और विदेशी कंपनियो को कमाई आपको सूअर वाला चाकलेट बेचने से होती है ! जिसे खाने से आप आपने आप को माडर्न समझने लगते है ! और विज्ञापन भी इसी तरीके से दिखाये जाते है की आपके दिमाग की मानसिकता को बदल दिया जाए ! और आपको ये दिखाया जाए की लड़कियो को तो चाकलेट बहुत पसंद होती है !! और लड़के जब तक उनको चाकलेट गिफ्ट ना करें तब तक लड़की पटती नहीं !! इस तरह की बातें बड़ी साजिश के तहत आपके दिमाग मे इन विदेशी कंपनियो द्वारा बैठाई जाती है !!

ऐसी कंपनिया ही दीवाली के दिनो मे मीडिया को पैसा खिला ये प्रचारित करती की सभी मिठाइयाँ नकली दूध खोये से बनाई जाती है ताकि आप चाकलेट खरीदे और बांटे !