7 FACTS: इन मामलों में पावरफुल देशों को भी टक्कर देता है भारत

19336

एक अरब से भी ज्यादा जनसंख्या वाला देश है भारत। अभी भी डेवलपिंग नेशन्स में गिने जाने वाले इस देश में काफी कमियां मौजूद हैं। लेकिन ऐसे भी कुछ मामले हैं, जिनमें कई ताकतवर देश भारत से पीछे हैं। इंटरनेट यूजर्स के मामले में दुनिया के दूसरे स्थान पर है इंडिया..

अगर ये कहा जाए कि भारतीयों का फ्यूचर इंटरनेट के हाथों में है तो शायद गलत नहीं होगा। चीन के बाद दुनिया के सबसे ज्यादा इंटरनेट यूजर्स भारत में हैं। आंकड़ों के मुताबिक, भारत में करीब 35 करोड़ 40 लाख लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। इस मामले में भारत US, जापान और रूस से भी आगे है। भारत ने इसमें अमेरिका को तब पीछे किया है जबकि यहां बाकी देशों के मुकाबले इंटरनेट की अवेलेबिलिटी काफी कम है। आईए देखते है ऐसे मामले जिनमें कई ताकतवर देश भारत से पीछे हैं

न्यूक्लियर हथियार 
सिर्फ 66 सालों के अंदर भारत परमाणु शक्ति बन गया है। थोरियम आधारित रिएक्टर्स बनाने के मामले में भारत को पहला स्थान मिला है। इसके अलावा भारत में 7 न्यूक्लियर पावर प्लांट्स हैं, जिनमें फिलहाल 21 रिएक्टर्स ऑपरेट कर रहे हैं। कह सकते हैं कि भारत के पास परमाणु हथियारों का जखीरा जमा हो गया है। फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट्स के मुताबिक, फिलहाल भारत के पास 75 से 110 न्यूक्लिअर हथियार हैं।

तीसरी सबसे बड़ी आर्मी है भारत के पास 
भारतीय आर्मी की जितनी तारीफ करें, कम है। 11 लाख 30 हजार एक्टिव ट्रुप्स और 10 लाख रिजर्व ट्रुप्स के साथ भारत के पास दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी आर्मी मौजूद है। एक्टिव डिफेन्स में भर्ती आर्मी का 80% योगदान है।

योगा और आयुर्वेद है भारत की देन 
आज योगा दुनियाभर में मशहूर है। लेकिन इसकी शुरुआत भारत से हुई थी। दुनिया को योगा के अलावा आयुर्वेद भी भारत ने ही दिया है।

आईटी इंडस्ट्री में मिला है दूसरा स्थान 
ारत में आईटी सेक्शन की ग्रोथ पिछले कुछ सालों में काफी ज्यादा हुई है। इस छेत्र में भी भारत के आगे सिर्फ चीन खड़ा है। लेकिन अगले 5 सालों में भारत चीन को भी पीछे छोड़ देगा।

इंडियन एयर फाॅर्स का दुनिया मानता है लोहा 
दुनिया के शक्तिशाली एयर फाॅर्स में भारत जर्मनी और ब्रिटेन से भी आगे है। दुनिया के पावरफुल एयर फाॅर्स में भारत को चौथा स्थान मिला है। फिलहाल भारत के पास 1,820 एयरक्राफ्ट्स हैं। जिनमें 905 कॉम्बैट प्लेन्स, 595 फाइटर और 310 अटैकर प्लेन्स शामिल हैं।

मार्स पर पहुंचने वाला दुनिया का चौथा देश है भारत 
भारत का मार्स मिशन किसी के लिए अनजान नहीं है। मार्स पर जाने वाला भारत एशिया का पहला और दुनिया का चौथा देश है। मार्स पर पहुंचने के लिए भारत ने बाकी देशों के मुकाबले सबसे कम पैसे खर्च किए हैं।

आईटी इंडस्ट्री में मिला है दूसरा स्थान 
भारत में आईटी सेक्शन की ग्रोथ पिछले कुछ सालों में काफी ज्यादा हुई है। इस छेत्र में भी भारत के आगे सिर्फ चीन खड़ा है। लेकिन अगले 5 सालों में भारत चीन को भी पीछे छोड़ देगा।