अगर आप भी एसिडिटी से परेशान हों तो इस छोटे से नियम के द्वारा पाए छुटकारा

15084

अक्सर एसिडिटी होने पर लोग एंटासिड या एसिडिटी की महंगी दवाओं की तरफ भागते हैं।राजीव दीक्षित जी का कहना था कि एसिडिटी का असली कारण खान-पान की गलत आदतें है। अगर इन आदतों में बदलाव लाया जाए तो एसिडिटी से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है।  एसिडिटी की दवा से आपकी किडनी खराब हो सकती हैं । जब हम खाना खाते हैं तो इस को पचाने के लिए शरीर में एसिड बनता हैं। जिस की मदद से ये भोजन आसानी से पांच जाता हैं। ये ज़रूरी भी हैं। मगर कभी कभी ये एसिड इतना ज़्यादा मात्रा में बनता हैं के इसकी वजह से सर दर्द, सीने में जलन और पेट में अलसर और अलसर के बाद कैंसर तक होने की सम्भावना हो जाती हैं।

इस विडियो में देखिए कौन सी आदते है वो >>

एसिडिटी बहुत ही भयानक बिमारी है. इसमें बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है. अगर इसे ठीक करना है तो, आप गों मूत्र पी लो इससे एसिडिटी बिलकुल नही होगी. राजीव भाई ने इसके लिए एक और सरल और सस्ता तरीका बताया है, कि पानी घूँट घूँट करके पियो कभी भी एसिडिटी नही होगी. इस उपाय से भी आप एसिडिटी होने से रोक सकते है, खाना खूब चबा चबा के खाओ कभी भी एसिडिटी नही होगी.

ये एसिडिटी उनको भी होती है, जो जल्दी जल्दी खाना खाते है. खाना खाने के बारे मे आयुर्वेद में कहा गया है, की इसे बहुत शांति से धीरे धीरे खाना चाहिए. आपको खाने एक टुकड़ा 32 बार चाबना है. अब उसे 32 से गुना करे राजीव भाई ने खा के देखा की 4 रोटी खानी हो और हर टुकड़े को 32 बार चबाना हो तो 20 मिनट लगते है, और कोई 4 से ज्यादा अगर 6 खाएगे तो ज्यादा से ज्यादा  30 मिनट समय लगेगा 30 मिनट से ज्यादा नही लगता. आप खाना खाने मे थोडा चबाने मे ध्यान दो तो ये आपके लिए बहुत अच्छा रहेगा. जानवर खाने को तो कितना चबाते है गाय, भैंस खाना खाते है, तो दो घंटे तक चबाते रहते है, जिसको हम जुगाली करना कहते है, इसीलिए वो हमसे ज्यादा स्वस्थ है.

आगे जानिए एसिडिटी से राहत की होम रेमेडी >>

लौंग – लौंग चबाएं या लौंग उबालकर उसका पानी पिए. ये गैस और एसिडिटी से राहत दिलाती है.

ठंडा दूध – ठंडा दूध पेट में जाकर एसिड को न्यूट्रीलाइट करता है. पेट को ठंडक पहुचाता है.

नींबू, खाने का सोडा – एक गिलास ठन्डे पानी में एक चमच नींबू का रस घोले और उसमे आधा चम्मच बेकिंग सोडा डालकर तुरंत पी लें.

केला – केले की अल्कलाइनप्रॉपर्टी पेट के एसिड को न्यूट्रीलाइट करती है ओर एसिडिटी और खट्टी डकार से राहत दिलाती है

अदरक – जलन होने पर एक टुकड़ा अदरक चबाएं, एक चम्मच शहद में अदरक का रस मिलाकर भी ले सकते है.