जब इन 10 वेज फूड में भी है भरपूर प्रोटीन तो आप क्यों मासाहारी बनते हो

47414

आमतौर पर नॉनेवज खाने वाले ये तर्क देते है कि इसमे प्रोटीन बहुत ज्यादा मात्रा में होता है। कई वेज फूड ऐसे होते हैं जिनमें इतना प्रोटीन होता है जो हमारी रोज की जरूरत के लिए पर्याप्त है और हमें कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं जबकि मॉस खाने से कई साइड इफ़ेक्ट होते है।

दरअसल एलोपेथी डॉक्टर बहुत कहते है के अन्डे खाना बहुत आवश्यक है और उनका हिसाब किताब प्रोटीन वाला है. वो कहते है प्रोटीन इसमें ज्यादा है विटामिन A ज्यादा है । लेकिन वो ऐसा क्यों कहते है ?? क्योकि उन्होने अपनी किताबों मे पढ़ा है. लेकिन क्यों पढ़ा है ?? दरअसल हमारे डॉक्टर जो पढाई करते है जैसे MBBS , MS, MD ये पूरी पढाई बाहर से आई है

अर्थात यूरोप . से आयी है और यूरोप के देशों मे साल के 8 महीने तो बर्फ होती है खाने-पीने की प्राकृतिक चीजें उनके पास ज्यादा है नहीं और जो है वो सब हमारे यहाँ से जाती है जैसे फल ,सब्जियाँ आयुर्वेदिक ओषधियाँ आदि अब वहाँ जो लोग होंगे जब कभी एलोपेथी चिकित्सा की किताबें लिखी गई होंगी उनके पास मांस और अन्डे के इलावा और कुछ नही होगा । तो उनकी जो पुस्तके है उनमे वो ही लिखा जायेगा जो वहाँ उपलब्ध है । और यूरोप में पूरा इलाका बहुत ठंडा है !सब्जी होती नही , दाल होती नही हैं ! पर अंडा बहुत मिलता है कियोंकि मुर्गियां बहुत है । अब हमारे देश में भी वो ही चिकित्सा पढ़ा रहे है क्यूंकि आजादी के 67 साल बाद भी कोई कानून बदला नहीं गया ! पर उस चिकित्सा को हमने हमारे देश की जरुरत के हिसाब से बदल नही किया.

अर्थात उन पुस्तकों में बदवाल होना चाहिए, उसमे लिखा होना चाहिए भारत में अन्डे की जरुरत नही है क्योकि भारत में अन्डे का विकल्प बहुत कुछ है । पर ये बदवाल हुआ नही और हमारे डॉक्टर वो पुस्तक पढ़ कर निकलते है और बोलते रहते है अन्डे खाओ मांस खाओ । आयुर्वेद की पढाई पढ़ कर जो डॉक्टर निकलते है वो कभी नही कहते के अन्डे खाओ । अन्डे में प्रोटीन है पर सबसे ज्यादा प्रोटीन तो उड़द की दाल में है, फिर चने की डाल, मसूर की डाल, अन्डे में विटामिन A हैं पर उससे ज्यादा दूध में है ।

एक वयस्क पुरुष के लिए जरूरी प्रोटीन : 56 ग्राम प्रति दिन
एक वयस्क महिला के लिए जरूरी प्रोटीन : 46 ग्राम प्रति दिन

अब हम बता रहे है 10 ऐसे प्रोटीन रिच फूड जो प्योर वेजिटेरियंस के लिए एकदम परफेक्ट हैं।

कद्दू के बिज – इसमे 100 ग्राम में 30 ग्राम प्रोटीन होता है. ये डायबिटीज से बचाव करता है

तिल – 100 ग्राम में 26 ग्राम प्रोटीन होत्ता है. ये वजन कम करने में मददगार है

चने की दाल – 100 ग्राम में 25 ग्राम प्रोटीन होत्ता है. इससे डाईजेशन इम्प्रूव होता है

मूंगफली – 100 ग्राम में 24 ग्राम प्रोटीन होत्ता है. ये हार्ट प्रॉब्लम से बचाव करती है

काबुली चना – 100 ग्राम में 19 ग्राम प्रोटीन होत्ता है. इसको खाने से चहरे पर ग्लो बढेगा

बादाम- 100 ग्राम में 21 ग्राम प्रोटीन होत्ता है. इसके सेवन से मसल्स मजबूत होते है

मुंग की दाल – 100 ग्राम में 24 ग्राम प्रोटीन होत्ता है. इसके सेवन से हेयर फॉल की प्रॉब्लम दूर होती है

राजमा – 100 ग्राम में 24 ग्राम प्रोटीन होत्ता है. इसके सेवन से कब्ज की प्रॉब्लम सही होती है

इस विडियो में देखिए हमें मासाहार का सेवन क्यों नहीं करना चाहिए. अगर आप मास खाना बंद कर देंगे तो पुरे विश्व की  भुखमरी की समस्या का हल हो सकता है. आइये आपको आंकड़ो से समझाते है >>