पिता की जिद के आगे नौकरी छोड़ की खेती, तीन महीने में बना लखपति

81984

छत्तीसगढ़ के बस्तर में रहने वाले 24 साल के अजय मेहरा ने पिता की जिद पर अच्छी-खासी नौकरी छोड़कर खेती करने का फैसला लिया। इस युवा ने 30 एकड़ में गोभी की खेती शुरू की और 3 महीने में ही वह करीब 16 लाख रुपए की कमाई कर चुका है। इसके साथ ही वह अब अपने साथियों को सब्जी की खेती के लिए मोटिवेट करने में जुटा हुआ है।

पिता को पसंद नहीं था नौकरी करना

– बकावंड ब्लाॅक के अजय के पिता शोभा सिंह मेहरा को उनके बेटे को नौकरी कराना पसंद नहीं था।
– एग्रीकल्चर में बीएससी पास होने के बाद अजय को एक प्राइवेट कंपनी में हर महीने 20 हजार रुपए की नौकरी मिली।
– लेकिन पिता के मना करने पर उसने नौकरी छोड़ दी और मेहनत पर भरोसा करते हुए गोभी की खेती शुरु की।
– कुछ साल पहले तक 5 एकड़ में धान और दूसरी फसलों की खेती करने वाला यह किसान अब 35 एकड़ में खेती कर रहा है, जिसमें फूल गोभी और पत्ता गोभी के 15-15 एकड़ शामिल हैं।
– गोभी की पैदावार अच्छी हुई और वह 3 महीने के अंदर ही लखपति बन गया। इस युवक ने खेती के लिए किसी तरह की सरकारी मदद भी नहीं ली, लेकिन बैंक से लिए कर्ज का 90 फीसदी हिस्सा चुका दिया है।

80 लोगों को दे रहा है रोजगार

– पहली बार गोभी लगाकर अजय ने गांव के रहने 80 किसानों को रोजगार दिया है।

– गांव के अन्य कृष्णा पटेल, मुरलीधर कश्यप और कन्हैया पांडे के साथ ही करीब एक दर्जन किसानों ने कुछ दिनों पहले की गोभी की शुरू कर दी है।

– इन किसानों के मुताबिक गोभी में होने वाले नकद फायदे को देखते हुए उन्होंनेे इसकी खेती शुरू की है।

– अब तक मिर्च की भरपूर पैदावार के लिए पहचाने गए बस्तर में अब बड़े पैमाने पर गोभी की खेती भी होने लगी है।

मलचिंग मेथड का मिला फायदा

– किसान ने गोभी की खेती इस साल मलचिंग मेथड से की है, जिसका फायदा उसे मिला। अजय ने कहा कि इसके पहले वह ड्रिप मेथड के जरिए खेती कर रहा था।

– अब मलचिंग मेथड से खेती करने में 70 फीसदी खर्च की बचत होती है। पिछले कुछ सालों से खेती के तरीके में लगातर बदलाव आ रहा है। किसान अब कम समय में ज्यादा फायदा देने वाली फसलों की खेती कर रहे हैं।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने  Whatsapp और  Facebook पर शेयर करें