किसानों ने चंदन का टीका लगाकर किया स्वागत! जैविक खेती सीखने फ्रांस से भारत आई लड़की

9495

बड़वाह(इंदौर). फ्रांस की अंतरराष्ट्रीय संस्था कॉटन कनेक्ट की सदस्य चार्ली इंदौर के पास एक गांव में पहुंची। वे कपास फसल का निरीक्षण करने आई थी, लेकिन यहां के किसानों द्वारा जैविक खेती से इम्प्रेस हुई। कपास का जांच छोड़ी और किसानों से जैविक खेती सीखी। चार्ली ने कहा- इस पद्धति को विदेश की धरती पर आजमाएंगे गोवर्धन तिवारी व शांतिलाल के खेतों में पहुंची चार्ली ने कपास की फसल देख उसकी तंदुरुस्ती का राज पूछा।

किसान ने बताया कीटनाशक की जगह नीम, गोमूत्र, केंचुआ खाद, वर्मी वाश का छिड़काव किया है। चार्ली ने इस तरह का ट्रीटमेंट पहले कहीं नहीं देखा था। जैविक खेती को बारीकी से सीखा। इस दौरान उनके साथ वसुधा जैविक अभियान के एमडी अविनाश कर्मकर, इंदौर के कृषि वैज्ञानिक अजीत केलकर मौजूद थे।

12072542_782475011877957_4666268298534228145_n

चंदन का तिलक और साफा खूब भाया
सुबह 9 बजे चार्ली यहां पहुंची। यहां किसानों ने उन्हें चंदन का टीका लगाया। माला पहनाई, सिर पर साफा बांधा और स्वागत किया। हिंदू रीति-रिवाज की यह परंपरा उन्हें खूब भाई। चार्ली ने तिवारी के खेत में देशी आम का पौधा लगाया और कहा- यह मेरी निशानी है। यह बड़ा होगा, इसके फल खाने जरूर आऊंगी। चार्ली को अपने बीच पाकर किसान भी उत्साहित दिखे। जल्दी से स्मार्ट फोन निकाला और चार्ली के साथ सेल्फी ली। कठपुतली के नाटक के द्वारा किसानों ने चार्ली को जैविक कृषि के लाभ व महत्व बताए। इस दौरान विनोद जाट, मुकेश तिलोकचंद, देवराम फत्तू, धर्मेन्द्र पंवार, गिरधारीलाल मधुलाल मौजूद थे।

साभार – दैनिक भास्कर

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Whatsapp और Facebook पर शेयर करें