ऊर्जा पेय के लिए आपका लगाव आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है

389

एनर्जी ड्रिंक्स का रेगुलर सेवन करने से आपके फिजिकल और मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पढ सकता है यह आपका ब्लड प्रेशर(बी.पी.) बढ़ा सकता है,मोटापा और किडनी ख़राब होने जैसी बिमारियों का कारण बन सकता है और ये एनर्जी ड्रिंक्स खासतौर पर बच्चों से तो बिलकुल दूर रखना चाहिए

बहुत से ड्रिंक में पानी,शुगर, कैफीन, और निश्चित विटामिन और मिनरल्स से भरपूर तो होतें हैं लेकिन इनमे कुछ कुपोषण तत्व जैसे कि गोरेना, टोरिन और गिन्सेंग भी मोजूद होते हैं और हमारे शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव डालते हैं

एक्सपर्ट एनर्जी ड्रिंक्स को बच्चों और बजुर्गों से दूर रखने के लिए कहते हैं क्योंकि इन एक्सपर्ट्स को एनर्जी ड्रिंक्स के सेवन करने ऐसे परिणाम(सबूत) मिले हैं जो हार्ट, किडनी,और दांतों की समस्या पैदा करते हैं साथ ही मानसिक स्वास्थ्य पर असर डालता है

कुछ एनर्जी ड्रिंक्स में तो 100mg प्रति बोतल  तक कैफीन पायी गयी हैं जो कि एक कप कोफी से 8 गुना है एक कप काफी में लगभग 12gm तक कैफीन होता है एक आदमी एक दिन में 400mg तक कैफीन सेवन कर सकता है लेकिन इन एनर्जी ड्रिंक्स में इस लेवल से ज्यादा कैफीन होती है जो की बच्चों और बजुर्गों की सेहत के लिए हानिकारक है

एनर्जी ड्रिंक्स के साथ जुडी हानियाँ ज्यादातर उसमें मौजूद अधिक शुगर और कैफीन के लेवल के कारण होती है ये हानियाँ चिंता और तनाव के रूप में मानसिक स्वास्थ्य समस्याएँ और रक्तचाप,मोटापा, गुर्दे की क्षति, थकान, पेट दर्द और एसिडिटी के रूप में फिजिकल समस्या होती हैं

इन एनर्जी ड्रिंक्स में चिंतित करने वाली दूसरी बात यह है की इसमें अल्कोहल के कण पाए गए हैं इस तरह ये लोग एक तरह से शराब का सेवन कर रहें हैं जिनका उनको पीने से महसूस नही होता इसमें शराब के नरभक्षी लक्षण होने के कारण व्यक्ति को अधिक शराब उपभोग करने में मदद मिल रही है जो बच्चों में निर्जलीकरण और शराब के जहर से होने वाली हानियों का खतरा बढ़ा रहा है