मीठी मिश्री के ये अनोखे फायदे नहीं जानते होंगे आप ! इन 8 चीजों में है बेहद असरदार

7751

शक्कर के जमे हुए कण को मिश्री कहते हैं। मिश्री उत्पादन का मूल स्त्रोत भारत और पर्शीया है। मिश्री स्वाभाविक रूप से ही मिठास का दूसरा नाम है। किसी भी मीठी बात या सौम्य व्यक्ति को मिश्री की डली का विशेषण दिया जाता है। अगर किसी की मीठी वाणी हो तो उसे कानों में मिश्री घोलना कहा जाता है, लेकिन मिश्री सिर्फ स्वाद से ही मीठी नहीं होती, बल्कि मिश्री के सेहत से जुड़े कई फायदे भी हैं। घर में प्रसाद के तौर पर, कई बार खाने के बाद मिश्री खूब खाई होगी। कई बार छुपाकर भी खाई है। मिश्री अपने स्वाद के लिए जितनी जानी जाती है उससे ज्यादा इसके कई सारे फायदे हैं। मिश्री का सबसे बड़ा फायदा तो यह है कि इससे याददाश्त बढ़ती है और यह शरीर को ठंडा रखती है।

जानिए कैसे इसे खाकर सेहत को फायदा होता है >>

1- गले की खराश और खांसी – खांसी हो या गला खराब एेसे में मिश्री का सेवन है बहुत ही लाभदायक। गला खराब होने पर जो गले में तेज दर्द होता है यह उससे भी राहत देता है। खांसी आने पर उस रोगी को मिश्री का टुकड़ा चूसने को दें। जिससे थोड़ी ही देर में खांसी गायब।
2- लू से बचाव – मिश्री में मिठास और ठंडक दोनों ही गुण होते हैं। इसलिए बहुत ज्यादा गर्मी में शर्बत में इसे घोलकर पीने से लू से बचा जा सकता है। इससे शरीर में स्फूर्ती का एहसास होता है और कुछ देर के लिए गर्मी से राहत मिलती है। क्योंकि यह ग्लूकोज के रूप में शरीर को ऊर्जा देती है।
3- मुंह के छाले – मुंह के छाले होने पर मिश्री को इलायची के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को मुंह के छालों पर लगाएं। झटपट ठीक होंगे छाले।

4- नकसीर – नकसीर होने पर मिश्री को पानी में मिलाकर सूघंने पर आराम मिलता है।
5- मर्दाना कमजोरी – केसर और दूध के साथ मिश्री का सेवन करने से सैक्स पावर बढती है।
6- खून की कमी – केसर और मिश्री मिले गुनगुने दूध का सेवन करने से शरीर में एनर्जी आती है। जिससे शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है।
7- हाथों या पैरों में जलन – मक्खन और मिश्री को बराबर मात्रा में मिलाकर लगाने से हाथों-पैरों की जलन दूर होती है।
8- आंखे और सिर की कमजोरी – आंखों की नजर कमजोर हो या सिर दर्द की शिकायत तो बस मिश्री,सौंफ और बादाम बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। फिर इस पाउडर को सुबह शाम गर्म दूध के साथ लें।