कान दर्द ने कर दिया है बेहाल तो आजमाए ये दमदार घरेलू उपाय

4143

कान में कई बार पानी या धूल मिट्टी चले जाने से फंगस जमनी शुरू हो जाती है। जो धीरे-धीरे इंफैक्शन का कारण बनती है। इससे सिर दर्द,बेचैनी,  और कान में असहनीय दर्द होने लगता है। जिन लोगों का ज्यादा जुखाम रहता हैं उनके कान में भी अक्सर दर्द रहने लगता है। कई बार तो रात के समय यह दर्द अचानक उठ जाता है, जिससे सहन करना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में कुछ घरेलू उपायों की मदद से राहत पा सकते हैं।

आइए जाने कौन से हैं ये उपाय  >>

1- प्याज का रस : कान में अचानक दर्द उठने पर प्याज का रस निकाल कर इसकी 1-2 बूंद कान में डाल लें। इससे दर्द से आराम मिलेगा।
2- सरसों का तेल : सरसों का तेल किसी भी तरह के इंफैक्शन में रामबाण है। कान दर्द होने पर तेल को हल्का सा गर्म कर लें। इसकी 1 बूंद कान में डाल लें। इससे दर्द कम हो जाएगा।
3- लहसून : लहसून के एंटी बैक्टिरियल गुण संक्रमण से बचाव करने में मददगार है। सरसों के तेल में लहसून की 1-2 कली डाल कर इसे भूरा होने तक गर्म करें। इसके बाद जब तेल हल्का गुनगुना हो जाए तो इसकी 1 बूंद कान में डाल लें।
4- पानी से सिकाई : कई बार कान में कफ जमा होने के कारण भी दर्द होना शुरू हो जाता है। इसके लिए सबसे बेहतरीन उपाय है गुनगुने पानी की सिकाई। गुनगुने पानी में तौलिया निचोड़ कर इससे कान की सिकाई करें। जब तौलिया ठंड़ा हो जाए तो दोबारा फिर इसी प्रक्रिया को दोहराएं। लगातार 15 मिनट तक ऐसा करें। इससे बहुत फायदा मिलेगा।
5- विटामिन सी युक्त आहार : पने खाने में विटामिन बी से भरपूर आहार को सेवन करें। यह फल इंफैक्शन दूर करने में मददगार है।

ध्यान में रखें ये बात :-
1- यह उपाय कुछ देर राहत पाने के लिए हैं। कान का सही तरीके से इलाज करवाना बहुत जरूरी है।
2- कान को कभी भी नुकीली चीज से साफ न करें।
3- दर्द होने पर इसे जोर-जोर से न हिलाएं। इससे परेशानी और भी बढ़ सकती है।
4- कान में फंगल जम जाने पर विशेषज्ञ से ही सफाई करवाएं।

इस विडियो में देखिए कान और आंख का घरेलू उपचार >>