शहद है आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर देता है बेमिसाल स्वास्थ्य लाभ करता है

2301

शहद या मधु हमेशा से रसोई में इस्तेमाल होने वाला एक स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ रहा है, साथ ही सदियों से एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में भी उसका इस्तेमाल होता है. दुनिया भर में हमारे पूर्वज शहद के कई लाभों से अच्छी तरह परिचित थे. एक औषधि के रूप में उसका इस्तेमाल सबसे पहले सुमेरी मिट्टी के टेबलेटों में पाया गया है जो करीब 4000 साल पुराने हैं। लगभग 30 फीसदी सुमेरी चिकित्सा में शहद का इस्तेमाल होता था. भारत में शहद सिद्ध और आयुर्वेद चिकित्सा का एक महत्वपूर्ण अंग है जो चिकित्सा की पारंपरिक पद्धतियां हैं. प्राचीन मिस्र में इसे त्वचा और आंखों की बीमारियों में इस्तेमाल किया जाता था और जख्मों तथा जलने के दागों पर प्राकृतिक बैंडेज के रूप में लगाया जाता था. आजकल चिकित्सा समुदाय में शहद पर काफी वैज्ञानिक शोध चल रहा है जो हमारे पूर्वजों द्वारा सोचे गए शहद के तमाम प्रयोगों की जांच कर के उन्हें पुष्ट कर रहा है.

खाँसी में शहद के फायदे : एक नींबू पानी में उबालें फिर निकालकर काँच के गिलास में निचोड़ें. इसमें एक 30 ml ग्लिसरीन और 90 ml शहद मिलाकर अच्छी तरह से मिलाएं. इसकी एक एक चम्मच चार बार लेने से खाँसी बन्द हो जाती है. 12 ग्राम शहद दिन में तीन बार लेने से कफ़ निकल जाता है, और खाँसी ठीक हो जाती है. काली मिर्च और शहद मिलकर पीने से खांसी और कफ से निजात मिलती है.
पेट के रोगों जैसे : कम भूख लगना, कब्ज अपच आदि को दूर करने के लिए तीन चम्मच पिसा हुआ आंवला रात को एक गिलास पानी में भिगो दें. सुबह: उसे छानकर चार चम्मच शहद मिलाकर पियें.

थकावट : शहद के प्रयोग से शक्ति, स्फूर्ति और स्नायु को शक्ति मिलती है. समुद्र में काम करने वाले जिनको बहुत समय तक पानी में रहना पड़ता है, वे शहद से यह शक्ति प्राप्त कर सकते हैं. शहद का सबसे बड़ा गुण थकावट दूर करना है. शक्कर से पाचन अंग खराब होते हैं, पेट में गैस पैदा होती है लेकिन शहद गैस बनने से रोकता है. यह मानसिक और शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है. आप सारे कामकाज करने के बाद रात को या जब भी थकावट हो तो दो चम्मच शहद आधे गिलास गर्म पानी में नीबू का रस निचोड़कर पी लें, सारी थकावट दूर हो जायेगी और पुन: ताजगी महसूस करने लगेंगे.
हिचकी (hiccup) : दो चम्मच प्याज के रस में इतना ही शहद मिलाकर खाने से हिचकी बन्द होती है. केवल शहद लेने से भी हिचकी बन्द हो जाती है.

कब्ज दूर करने के लिए दूध और शहद के फायदे : प्रात: व रात को सोने से पहले 50 ग्राम शहद ताजा पानी या दूध में मिलाकर पियें। शहद का पेट पर संतोष जनक प्रभाव पड़ता है.
(आँखों के लिए शहद शहद के फायदे ) रतौंधी (Night blindness) : आँखों में काजल की तरह सोते समय शहद लगाने से रतौंधी दूर होती है.. इससे आँखों की कमजोरी भी दूर हो जाती है.
आधे सिर में दर्द (Migraine) :  यदि सिर दर्द सूर्योदय से शुरू हो, जैसे-जैसे सूर्य ढलने लगे, सिरदर्द बन्द हो जाए, ऐसे आधे सिर के दर्द में जिस ओर सिर में दर्द हो रहा हो उसके विपरीत दिशा वाले दूसरे नाक के नथुने (Nostrils) में एक बूंद शहद डाल दें, दर्द में आराम हो जाएगा. रोजाना भोजन के समय दो चम्मच शहद लेते रहने से दर्द नहीं होता. कभी दर्द हो भी जाए तो उसी समय दो चम्मच शहद ले लेने से ठीक हो जाता है.

विडियो देखे >>