प्याज, नींबू और शहद मिलाकार ऐसी दवाई बनती है जो 4-5 महीने भी ख़राब नहीं होती

6200

नमस्कार दोस्तों, एक बार फिर से आपका हमारी औषधियो से भरी दुनिया में बहुत बहुत स्वागत है. आज हम आपके लिए राजीव दीक्षित जी द्वारा कथित प्याज़ के फायदे लाये है. जैसा कि हम जानते ही है कि प्याज़ यानि की कांदा बहुत ही फायदेमंद औषधि है और आसानी से हमे मिल भी जाता है. तो दोस्तों अगर आप एक चम्मच सफेद कांदे के रस का इस्तेमाल करें तो ये आपके लिए बहुत लाभदायक सिद्ध हो सकता है. अक्सर हम लोग जो प्याज़ घर में इस्तेमाल करते है, वो दिखने में लाल दिखाई देता है. लेकिन लाल प्याज किसी काम का नही होता. क्योंकि असल में गुणकारी कांदा सफेद वाला होता है. सफेद कांदे में बहुत सारे औषधीय गुण पाए जाते है.

गुण (Property)

प्याज पित्तनाशक, उत्तेजक और काफी नींद को लाते है। प्याज के बीज बलवर्द्धक, दंतकृमि (दांतों के कीड़े) और प्रमेह (धातु के विकार) को नाश करने वाले हैं। यह पीलिया, वातरोग, पित्तवर्धक, कफवर्धक, वेदनास्थापन (दर्द को कम करने वाला), शोथहर (सूजन को हरने वाला), व्रणशोथपाचन (जख्म की सूजन को कम करने वाला) और त्वचा के दोषों को दूर करने वाला है। प्याज दीपन (भूख को बढ़ाने वाला), पाचन (पचाने वाला), मूत्रल (पेशाब की मात्रा को बढ़ाने वाला) होता है। इसके अतिरिक्त यह शुक्राणुओं को उत्पन्न करने पाला, रक्तस्तम्भक, आर्तवजनन (मासिकस्राव लाने वाला), बाजीकरण (कामोद्दीपन), शक्तिवर्द्धक, खुजलीनाशक और चेहरे की चमक को बढ़ाने वाला वाला होता है।

एक चम्मच कांदे का रस ले और उसमे एक चम्मच निम्बू का रस मिला दें, कोशिश करें की निम्बू का रस जो आप मिलाने जा रहे है, वो बेदाना निम्बू हो. बेदाना निम्बू यानि की जिस निम्बू में किसी तरह के कोई बीज नही होते. ऐसा निम्बू बहुत है गुणकारी होता है. इस रस में अब आप तीन से चार चम्मच मध् (शहद) मिला ले. अब इस सारे मिश्रण को एक बाटली (कांच की बोतल) में भरलें, और अच्छे से मिक्स कर लें.

अब इस मिश्रण को अगर आप रोजाना सुबह आँखों में एक से दो चम्मच डालेंगे, तो आपकी आँखों का मोतियाबिंद दूर हो जायेगा और आपकी आँखों की रोशनी भी बढ़ जाएगी. अगर इस मिश्रण में आप तीन से चार चम्मच गुलाब जल के मिला लें, तो ये सोलूशन आपके लिए और भी ज्यादा लाभदायक सिद्ध होगा.

इस मिश्रण को हम अपने घर में सामान्य तापमान पर किसी बोतल में रख सकते है. फ्रिज या धुप में नहीं रखना है. क्योंकि ये रस 4-5 महीनो तक भी खराब नही होता है. कुछ लोगो की आँखों में कालापन दिखाई देता है, और वह लोग साफ़ देख भी नही सकते. इस बीमारी को ग्लूकोमा कहा जाता है. अगर आप उस व्यक्ति की आँखों में रोज़ ये मिश्रण डालें तो कुछ ही समय में उस व्यक्ति की आंखें एकदम ठीक हो जाएँगी.

इस विडियो में देखिए इसे कैसे बनाना है और कैसे इस्तेमाल करना है >>