इस वैज्ञानिक ने किया साबित, न्यूटन का ‘तीसरा’ नियम है गलत

13148

हिमाचल के वैज्ञानिक का न्यूटन के गति के तीसरे नियम को गलत साबित कर दिया है। 17 साल पहले इस पर किए गए अपने शोध के सहारे उन्होंने गति तीसरे नियम को गलत बताया था। आखिर कार 17 साल के बाद नासा ने इसकी पुष्टि कर दी। हाल ही में नासा की इगलवक्र्स लैबोरेटरी, हाऊसटन अमेरिका के प्रयोगों में न्यूटन का तीसरा नियम गलत पाया गया है। यह प्रयोग हिमाचल प्रदेश शिक्षा विभाग के सहायक निदेशक अजय शर्मा की 17 वर्ष पुरानी रिसर्च के लिए वरदान साबित हो सकता है। शर्मा ने 1999 में छपे शोध पत्र में न्यूटन के तीसरे नियम को पहले ही संशोधित किया था।

अभी तक माना जाता रहा हैं कि जब आतिशबाजी को आग लगाते है गैस और धुंआ पीछे निकलता है। आतिशबाजी आगे जाती है इसे क्रिया मानते हैं तो प्रतिक्रिया के रूप में धुंआ पीछे जाता है। इस तरह क्रिया और प्रतिक्रिया बराबर होती है। अत: न्यूटन को 311 वर्ष पुराना नियम सही है। अन्तरिक्ष में जाने वाले स्पैसक्राफट का भी यही सिद्धान्त है। अजय शर्मा के अनुसार प्रतिक्रिया, क्रिया से कम या ज्यादा भी हो सकती है।

न्यूटन ने गति का तीसरा नियम अपनी पुस्तक प्रिंसीपिया (1687) के पृष्ठ संख्या 19-20 पर दिया है। तीसरे नियम के अनुसार वस्तु की प्रकृति और संरचना पूरी तरह महत्वहीन और निरर्थक है। यह वस्तु की प्रकृति और संरचना की अनदेखी करता है। यहां न्यूटन का नियम सही नहीं है इसलिए इसे अजय शर्मा ने 1998 में संशोधित किया गया है।

फिर क्या समस्या है ? क्या है नई बात ? :
2000 में ब्रिटिश वैज्ञानिक रोजर शायर ने मत दिया कि स्पैसक्राफ्ट को बिना ठोस या तरल ईधन के भी अन्तरिक्ष में छोड़ा जा सकता है। यहां हम ईधन की जगह इलैक्ट्रॉनिक मैगनिक वेवज का प्रयोग इन्जन में कर सकते हैं। इन्हीं वेवज की वहज से स्पेसक्राफ्ट आगे बढ़ेगा। इस अवस्था में धुंआ और गैसे पीछे नहीं निकलेगी। इस तरह कोई प्रतिक्रिया नहीं होगी परिणामस्वरूप न्यूटन की गति का तीसरा नियम गलत होगा। इसीलिए वैज्ञानिकों ने रोजर शायर की शोध की ओर ध्यान नहीं दिया।क्योंकि न्यूटन को वैज्ञानिक किसी भी सूरत में गलत नहीं मान सकते थे।

नासा के जॉनसन स्पेस सेंटर की वैज्ञानिक पहले नासा की एडवांसड प्रोपलसन फिजिक्स रिसर्च लैबोरेटरी, हाऊस टन अमेरिका ने रोजर शायर के दावे को परखने का बीड़ा उठाया वैज्ञानिक ने नया इंजन टारसन पैंडुलम पर लगाया। प्रयोग में सुस्पष्ट बल 1.2 मिली न्यूटन/किलोवाट पाया गया यह बल महत्वपूर्ण है। रोजर शायर का दावा सही पाया गया इस तरह प्रयोग में क्रिया तो है पर प्रतिक्रिया नहीं है। यही न्यूटन का तीसरा नियम गलत साबित होता है। न्यूटन के नियम के अनुसार क्रिया और प्रतिक्रिया बराबर होनी चाहिए थी।

अजय शर्मा की शोध की पुष्टि :
भारतीय वैज्ञानिक अजय शर्मा ने 1998 में एक्टा सिनेसिया इंडिका नामक जरनल में न्यूटन के तीसरे नियम को गलत ठहरा कर उसे संशोधित किया। संशोधित नियम के अनुसार प्रतिक्रिया, क्रिया से कम या ज्यादा भी हो सकती है। नासा की लैबोरेटरी के प्रयोग में प्रतिक्रिया कम या शून्य पाई गयी। इसी तरह अजय शर्मा के संशोधित नियम की पुष्टि होती है। इतना ही नहीं अजय शर्मा ने कैम्ब्रिज, इंग्लैंड से प्रकाशित पुस्तक ‘बियोड न्यूटन एंड आर्किमीज’ के दो अध्यायों में न्यूटन के तीसरे नियम के संशोधित रूप की विस्तृत व्याख्या की है। पुस्तक के पृष्ठ 315 पर स्पष्ट लिखा है कि न्यूटन का तीसरा नियम राकेट या स्पैसक्राफट में बिना गणित के तर्कों के ही सही माना जा रहा है। अमेरिका से प्रकाशित होने वाले जरनल ‘फिजिक्स ऐसेज’ में 2016 में शर्मा का शोध पत्र छपा है। इसमें न्यूटन के संशोधित नियम की गहराई से व्याख्या की है। अजय शर्मा का संशोधित नियम एक व्यापक नियम है। इगलव्रक्स लैबोरेटरी का प्रयोग सिर्फ एक बिन्दु को ही छूता है। यही अजय के शोध का महत्व है

वैज्ञानिकों का अगला कदम :
न्यूटन के नियम को एक प्रयोग में गलत ठहराने वाला शोधपत्र अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ ऐरोनाउटिक्स एंड एस्ट्रोनाऊटिक्स के जरनल ‘प्रोपलसन एंड पावर’ में 17 नवम्बर 2016 को छप चुका है। छापने से पहले वैज्ञानिकों ने इसकी छानबीन की थी। अब वैज्ञानिक इसे स्पेसक्राफ्ट में प्रयोग लाएंगे। इसमें कोई ठोस तरल, ईधन नहीं होगा और बिजली से चलेगा। बिजली सोलर पैनलज में बनेगी। इस तरह यह सबसे सस्ता तरीका होगा। रोजर शायर के अनुसार हम 70 दिनों में इस तरीके से मंगल तक पहुंच जाएंगे। यही वैज्ञानिक जिज्ञासा का कारण है। जैसे-जैसे यह शोध आगे बढ़ेगी, अजय शर्मा के कार्य को मान्यता मिलती जाएगी।