तो इस वजह से होते हैं जुड़वाँ बच्चे , जाने क्या है वजह ?

2839

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एक्ट्रेस सेलिना जेटली दोबारा ट्विन्स को जन्म देने वाली हैं। सेलिना से पहले कोरियोग्राफर फरहा खान भी ट्रिपलेट्स यानी तीन बच्चों को एक साथ जन्म दे चुकी हैं। यह सवाल अक्सर उठता है कि आखिर क्यों कुछ महिलाओं को जुड़वां या तीन बच्चे एक साथ होते हैं? इस पैकेज में हम एक्सपर्ट के हवाले से इसी सवाल का जवाब देने की कोशिश कर रहे हैं।

जुड़वा बच्चे कैसे बनते हैं – एक-दूसरे से अलग दिखने वाले या मैनोज़ाइगॉटिक या बिल्कुल एक से दिखने वाले जुड़वा या डायज़ाइगॉटिक, मैनोज़ाइगॉटिक जुड़वा बच्चों का निर्माण तब होता है जब एक एग से किसी स्पर्म द्वारा फर्टिलाइज़ किया जाता है, लेकिन दो एम्ब्रीओ निर्माण होता है।  इस तरह जन्म लेनेवाले जुड़वा बच्चों की आनुवांशिक संरचना एक ही होती है। जबकि डायज़ाइगॉटिक जुड़वा बच्चे तब बनते हैं जब दो अलग स्पर्म्स दो एग्स को फर्टिलाइज करते हैं और दो अलग दिखनेवाले बच्चे पैदा होते हैं। ऐसे बच्चों की आनुवांशिक संरचना अलग होती है।

इंडियन फर्टिलिटी सोसायटी के चैप्टर हेड और न्योनैटोलॉजिस्ट एंड एम्ब्रायोलॉजिस्ट डॉ. रणधीर सिंहका कहना है कि एक से ज्यादा बच्चों को जन्म देने की घटना को मेडिकल टर्म में मल्टिपल प्रेग्नेंसी कहा जाता है। इसका मतलब है कि किसी महिला के गर्भ में दो या ज्यादा बच्चे हैं। ये बच्चे एक ही एग या अलग-अलग एग से हो सकते हैं।

> आइडेंटिकल ट्विन्स : एक ही एग से पैदा होने वाले बच्चे आइडेंटिकल कहलाते हैं। ऐसा तब होता है जब एक एग एक स्पर्म से फर्टिलाइज होता है। इसके बाद फर्टिलाइज्ड एग दो या ज्यादा हिस्सों में बंट जाता है। इसे काफी रेयर माना जाता है। इन बच्चों का चेहरा और नेचर बिल्कुल मिलता-जुलता होता है।

> फ्रेटरनल ट्विन्स :अलग-अलग एग से पैदा होने वाले बच्चे फ्रेटरनल कहलाते हैं। ऐसा तब होता है जब दो या ज्यादा एग अलग-अलग स्पर्म से फर्टिलाइज होते हैं।

अगर महिला के परिवार में पहले से ही फ्रेटरनल ट्विन्स हैं तो इसकी संभावना बढ़ जाती है। अधिकांश ट्विन्स इसी तरह के होते हैं। ऐसे ट्विन्स एक जैसे भी दिख सकते हैं और अलग-अलग भी।

जुड़वाँ बच्चे पैदा होने के 5 बड़े कारण >>

पहला कारण :-

दूसरा कारण :-

तीसरा कारण :- 

चौथा कारण :- 

पांचवा कारण :-