रोज बैठते हैं AC  में तो हो सकते हैं नुकसान

1683

एसी यानी एयर कंडीशनर आज हमारी सबसे बड़ी जरूरतों में से एक बन गया है. हम दफ्तर में हों या घर पर बिना एसी के बैठ पाना मुश्किल सा लगता है. गर्मियों में तो ऐसा लगता है जैसे एसी का अविष्कार ही मानव की सबसे बड़ी कामया‍बी हो. लेकिन क्या आप जानते हैं कि जिस एसी की हमें और आने वाली जनरेशन को आदत सी होती जा रही है वह जहां गर्मी से राहत देता है, वहीं आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचाता है. जी हां, एसी आपकी सेहत को काफी नुकसान पहुंचा सकता है. एक नजर एसी से होने वाले नुकसानों पर…

रोज बैठते हैं AC  में तो हो सकते हैं नुकसान >>

थकान – AC का टेम्परेचर कम रहता है. ऐसे में बॉडी को अपना टेम्परेचर मेन्टेन करने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है, जिससे थकान होने लगती है.

बेचैनी और स्ट्रेस – हमेशा AC में रहने के कारण बॉडी को एक ही टेम्परेचर की आदत पड़ जाती है. ऐसे में थोड़े गर्म या ज्यादा ठन्डे माहौल में रहना पड़े, तो हम चेंज को सह नही पाते. ऐसे में बेचैनी और स्ट्रेस की प्रॉब्लम होने लगती है.

सिरदर्द – लगातार AC  में बैठने के कारण बॉडी का ब्लड सर्कुलेशन गड़बड़ हो जाता है. इससे मसल्स में खिंचाव होता है और सिरदर्द की प्रॉब्लम होने लगती है.

साइनस – AC  की ठंडी हवा के कारण म्युक्ल ग्लैंड हार्ड हो जाती है. स्टडीज कहती है, जो लोग रोज 4 घंटे से ज्यादा समय तक AC  में बैठते हैं, उन्हें साइनस होने का खतरा रहता है.

ड्राई स्किन – AC  की ठंडी हवा के कारण स्किन की नेचुरल नमी कम हो जाती है. इससे स्किन ड्राई हो जाती है और खुजली हो सकती है.

एलर्जी – AC के फ़िल्टर लम्बे समय तक साफ़ न हों, तो उसकी हवा से निकलने वाली धुल और बैक्टीरिया के कारण सर्दी-जुकाम, वायरल इन्फेक्शन और एलर्जी हो सकती है.

आँखों की प्रॉब्लम – AC की ठंडी हवा के कारण आँखों की ड्राईनेस बढ़ जाती है. इससे आँखों में खुजली, पानी आना, चुभन और आँखें लाल पड़ना जैसी प्रॉब्लम हो सकती है.

ब्रेन पर असर – AC का टेम्परेचर बहुत कम होने के कारण ब्रेन सेल्स सिकुड़ने लगती है. इसका ब्रेन पर बुरा असर पड़ता है. चक्कर आने की प्रॉब्लम भी हो सकती है.