राजीव दीक्षित जी द्वारा बताया गया, बुखार का ऐसा घरेलू इलाज आपको कही और नहीं मिलेगा

7066

हर्सिंगार एक पेड़ होता है इस को पहचानना बहुत आसान है इसके उपर सफेद रंग के छोटे छोटे फुल लगते है और इस फुल में खुशबू बहुत होती है और इसकी डंडी हमेशा नारंगी या लाल रंग की रहती है, जिसे केसरिया रंग भी कहते है इसके फुल सवेरे सवेरे जमींन पर पड़े हुए मिलते है, रात को फुल खिलेंगे और सवेरे जमीं पर गिर जायंगे. ये पहचान है हरसिंगार के पेड़ की. हर्सिंगार के पांच पत्ते ले और पांचो पत्ते पीस के चटनी बना ले और आधा चम्मच चटनी उसको एक गिलास पानी मे रख के अच्छे से गर्म कर ले इतना गर्म कर देना की पानी आधा हो जाये और फिर इसको ठंडा कर लेना और ठंडा कर के पी लेना है

इस विडियो में देखिए बुखार का घरेलू उपचार >>

एक बुखार का नाम आपने सुना होगा – चिकनगुनिया एक और बुखार  है डेंगू, इस ब्रेन मलेरिया भी कहते है ये जल्दी ठीक नही होते है. ये बुखार बार बार आते है. ये सब बुखार इस (हरसिंगार) से ठीक हो जाते है हरसिंगार बहुत बढ़िया पेड़ है इसे घर मे जरुर लगाए. ये बुखार भी ठीक करेगा, गठिया भी ठीक करेगा. अगर आप ये उपाय करेंगे तो तीन दिन से ज्यादा आपके बुखार को ठीक होने में नही लगेंगे. ये तीन दिन मे ठीक कर देगा. ये घठिया को तीन महीनों में ठीक करेगा लेकिन बुखार मे दिन से ज्यादा नही लगेगा

इसका एक उपाय और भिया राजीव दीक्षित जी ने बताया था वो ये कि तुलसी के 10-15 पत्ते तोड़ लो, उनको पत्थर में पीसो लो. 3-4 काली मीर्च ले, उसे भी पत्थर मे पिस लो और ये तुलसी और कलि मिर्च मिलाके फाक्की ले.

इसका एक और इलाज राजीव भाई ने बताया था नीम के पेड़ पर एक बेल चढ़ती है उसको गिलोय बेल  कह जाता है कई लोग अम्बर कहता है कोई लोग गुमेच कहते है वो बेल का थोडा सा टुकड़ा काटो, पत्थर मे पिस कर, पानी में उबल लो और इतना उबल लो की पानी आधा हो जाये और इसको पी लेना, ये हर बुखार को ठीक कर देगा और कई बार जब बुखार ज्यादा हो जाये और शरीर खून मे स्वेट रंग डब्लू.बी.सी.कम हो जाते है, और कई बार Platelets  कम हो जाते है, तो ये नीम की गिलोय बुखार ठीक कर देगी, और Platelets  बढ़ा देगी और और अगर आप नीम का पेड़ घर में लगा लेंगे तो एक भी मच्छर घर मे नही घुसता.