जानिए हर रोज दो चम्मच गुलकंद का सेवन करने से हम कितनी बीमारियो से मुक्त हो सकते है

435

दोस्तों आज हम आपके लिए जो जानकारी लाये है वो गुलकंद के बारे में है. जानिए गुलकंद कैसे हमारे लिए एक रामबाण औषधि का काम करता है इससे शरीर पर क्या जादू होता है …जानिए गुलकंद को खाना हमारी सेहत पर क्या जादुई असर करता है …!!दोस्तों गुलकंद हमारे शरीर को बहुत ही जयादा फायदा पहुंचाता है. क्योकि गुलकंद गुलाब से बनता है और जिससे हमारे शरीर को बहुत ही जयादा ठंडक मिलती है. गुलकंद को आप किसी भी मौसम में खा सकते है

लेकिन अगर इसे गर्मी के मौसम में खाया जाये तो इससे हमारे शरीर को बेहद ठंडक मिलती है. वैसे भी गर्मियों में तली भुनी व चटपटी चीजे खाने की बजाये ठंडी चीजे खाने का जैसे छाछ ,लस्सी या फिर ठंडाई का मन करता है. लेकिन हम आपको बता दे की गुलकंद खाने से भी हमें गर्मी से रहत मिलती है. वैसे तो आप सबने कभी न कभी गुलकंद को खाया ही होगा.

लेकिन आप ये नहीं जानते होंगे की गुलकंद खाने से हमारे शरीर को बहुत ही जयादा फायदा मिलता है. इसलिए गुलकंद का प्रयोग कई प्रकार की आयुर्वेदिक दवाइयों में किया जाता है. गुलकंद गुलाब की पंखडियो व शुगर से बनता है इसलिए गुलकंद भीषम गर्मी से सम्बंधित कई समस्याएं जैसे थकान,सुस्ती खुजली आदि में उपयोग किया जाता है. गुलकंद से हमारी सौन्दर्य से सम्बंधित सारी समस्याओं को भी दूर करने में काम आता है. गुलकंद के नियमित सेवन से शरीर ठंडा रहने के साथ साथ हमरी सेहत को भी दुरुश्त रखता है.

तो आइये जानते है की गुलकंद खाने से हमारे शरीर को क्या क्या फायदे मिलते है :-

गुलकंद पेट के लिए एक रामबाण औषधि का काम करता है. क्योकि कई लोगो को पेट की समस्याएं जैसे कब्ज ,अपच ,गैस ,जलन ,मोरड़ व पेट दर्द की समस्या बनी रहती है. मगर जब आप गुलकंद का सेवन करते है आपको पेट की इन समस्याओं का समाना नहीं करना पड़ता है. इसे खाने से हमारी भूख भी बढ़ती है. क्योकि इसमें विटामिन c ,e व बी की अधिक मात्रा पाई जाती है.

प्रग्नेंट औरतो को दिन में कम से कम दो बार गुलकंद का सेवन जरूर करना चाहिए इससे माँ व होने वाले बच्चे को बहुत ही फायदा मिलता है.

वजन कम करने में मदद – गुलाब में लेसेटिवव डयरेटिव गुण पाए जाते है जो हमारे शरीर के मेटाबॉलिज्म को तेज करने में मदद करता है. जिससे हमारे शरीर में कैलोरी की मात्रा को कम कर देता है. जिससे हमारा वजन कम हो जाता है.

दिमाग के लिए फायदेमंद – गुलकंद का हर रोज सुबह शान एक एक चम्मच सेवन करने से हमारा दिमाग शांत रहता है. और इसे खाने से मानशिक तनाव व चिड़चिड़ापन भी दूर हो जाता है. जिससे मानशिक थकान व तनाव भी कम इसको खाने से बच्चो की मेमोरी पावर भी बढ़ जाती है.

आँखों की समस्या – गुलकंद खाने से आँखों की समस्याएं जैसे जलन भी दूर हो जाती है. इससे आँखों की रौशनी भी बढ़ जाती है. और इससे आँखों की नसे भी ठीक हो जाती है.

त्वचा के लिए – अगर किसी की त्वचा रूखी व बेजान हो गए हो तो वो गुलकंद को खाना शुरू कर दे इससे त्वचा में नमि बनी रहती है और त्वचा का रंग भी निखर जाता है. और हमारी त्वचा बेजान नहीं रहती है.

मुहासो को दूर करने में मदद करता है – गुलकंद में एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाते है. और इससे हमारा खून भी साफ होता है. जिसे कारन हमें पिम्पल्स का समाना नहीं करना पड़ता है. इससे शरीर से आने वाली बदबू भी दूर हो जाती है. और इससे शरीर के सरे टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते है. और इससे हमारी स्किन का रंग साफ़ हो जाता है.

मुहु के छाले-कई बार हमारे मुहु में छाले होने की वजह से जलन व दर्द होने लगता है मगर जब हम रेगुलर गुलकंद का सेवन करते है तो इन समस्याओं से बच जाते है.

गुलकंद को खाने से हमारे शरीर में इम्युनिटी पावर बढ़ जाती है. जिससे हमें रोगो से लड़ने की ताक़त मिलती है.

अगर किसी को गर्मी के मौसम में नाक से खून निकलने की समस्या हो जिसे नकसीर कहा जाता है तो ऐसे में गुलकंद को खाने से इस समस्या से मुक्ति मिल जाती है.

अगर गर्मी में किसी को हाथो व पैरों मियाउ जलन हो तो उसे गुलकंद खाना चाहिए तो ये समस्या भी दूर हो जाती है.

देखा दोस्तों गुलकंद का सेवन करने से हम कितनी समस्याओं से बच जाते है. लेकिन हमें गुलकंद का सेवन लगातार छ महीने से जयादा नहीं करना चाहिए. और फिर इसे एक या दो महीने के लिए बंद कर दो फिर शुरू करे. तो इससे कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं होंगे. परतु मधुमेह रोगियों को बाजार का बना गुलकंद का सेवन नहीं करना चाहिए अगर हो सके तो इन्हे घर का बना हुवा ही गुलकंद खाना चाहिए. लेकिन आजकल बाजार में शुगर फ्री गुलकंद भी आता है. लेकिन जहा तक हो सके घर का बना हुवा ही गुलकंद का इस्तेमाल करे.