इस एमबीए ग्रेजुएट ने 1 साल में इस तरीके से बेचे 30 लाख के छाते

4149

क्या आपने कभी सोचा है कि एमबीए करने बाद आप छाता बेचेंगे? लेकिन मुंबई के नौजवान प्रतीक दोषी ने कुछ ऐसा ही किया। प्रतीक ने एमबीए करने के बाद कुछ साल नौकरी की। जल्द ही प्रतीक का मन नौकरी से ऊब गया और उसने अपना बिजनेस करने की सोची। प्रतीक ने छाते बेचने का बिजनेस शुरू किया। एक साल में दोषी ने 30 लाख रुपए के छाते बेच डाले। आइए जानते हैं दोषी के छाते का बिजनेस आज कैसे बना गया है एक ब्रांड…

प्रतीक ने ऐसे शुरू किया सफर 
प्रतीक के दोस्त एमबीए करने के बाद अच्छी कंपनियों में नौकरी कर मोटी सैलरी पा रहे थे। लेकिन प्रतीक नौकरी छोड़ने के बाद बेरोजगार घूम रहा था। कुछ समय खाली रहने के बाद प्रतीक ने डिजाइनर छाते का बिजनेस शुरू करने का मन बनाया ।

500 छातों से शुरू किया कारोबार 
–    प्रतीक ने साल 2014 में इस बिजनेस को शुरू किया
–    शुरुआत में प्रतीक ने 500 छाते बनाए और उसे अपने फैमिली, रिश्तेदारों और दोस्तो में बेचना शुरू किया।
–    प्रतीक में बिजनेस शुरू करने के लिए अपनी नौकरी से बचाए हुए पैसों का इस्तेमाल किया।
–    1.35 लाख रुपए लगाकर प्रतीक ने छाते बनाने की मशीन और बाकी सामान जुटाए।
–    इनके छातों का स्टाइल और लुक मार्केट के बाकी छातों से अलग था।
–    इसी कारण लोगों को इनके छाते पंसद आने लगे।

छाते का बिजनेस क्यों ? 
आप सोच रहे होंगे कि लोग कई अलग-अलग तरह के बिजनेस करते हैं, लेकिन इस शख्स ने छाते का बिजनेस क्यों करने की सोची। प्रतीक को लगा कि इस मार्केट में काफी जगह खाली है, जिसका फायदा उसे मिल सकता है। दूसरी ओर, इस शख्स ने ठान लिया था कि नौकरी करके दूसरों को अमीर बनाने से अच्छा है कुछ अपना किया जाए। इसी सोच के साथ प्रतीक ने डिजाइनर छातों का बिजनेस शुरू किया।

ऐसे बढ़ा कारोबार 
–    मार्केट से अच्छा रिस्पॉन्स मिलने के बाद प्रतीक ने बिजनेस का विस्तार शुरू किया।
–    प्रतीक ने देश के लीडिंग ई-कॉमर्स कंपनियों के वेबसाइट के जरिए अपना छाता बेचना शुरू किया।
–    स्नैपडील, फ्लिपकार्ट, अमेजन जैसे कंपनियों पर रजिस्टर्ड सेलर बनने के बाद प्रतीक के बिजनेस ने रफ्तार पकडी
–    कभी 500 छाते बेचने में प्रतीक को 3 महीने का समय लगा था, लेकिन इन कंपनियों पर रजिस्टर्ड होने के बाद           इनके सेल्स में 40 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई।

एक्सपेंशन पर जोर 
–    बिजनेस जम जाने के बाद प्रतीक ने अब एक्सपेंशन पर जोर देना शुरू किया
–    ई-कॉमर्स से मिल अच्छे रिस्पॉन्स के बाद प्रतीक ने ‘चिकी चंक’ नाम से अपनी कंपनी बनाई।
–    अपनी कंपनी की बेवसाइट के जरिए अब बिजनेस और ज्यादा आने लगा।
–    आज इनकी कंपनी केवल ई-कॉमर्स से एक दिन में 400 से ज्यादा छाते बेचती है।
–    कंपनी ने पिछले दो साल में 30 लाख से ज्यादा के छाते बेचे हैं।
–    आने वाले साल में कंपनी की योजना 30 नए स्टोर्स खोलने की है।