जींस और टाइट कपडे पहनने से आती है नपुंसकता, जानिए इसके पीछे का साइंटिफिक कारण

3700

दोस्तों ये टाइट कपडे कभी हमारे पूर्वज नहीं पहने थे, वो हमेसा खुले वस्त्र पहनने थे जैसे कुर्ता पजामा, धोती कुर्ता आदि. उनकी लाइफ भी लम्बी होती थी और उनका स्वास्थ्य भी हमसे ज्यादा ठीक रहता था. ये जीन्स और अन्य कपडे जो आजकल हम पहन रहे है ये विदेशी है, ये विदेशो से आए है. हलाकि इनका उत्पादन अब हमारे यहाँ होता है लेकिन ये वेशभूषा भारत की नहीं है. अब जीन्स के बारे में आपको बता दू कि अगर आप लगातार जीन्स पहन रहे है तो आपको नपुंसकता आ सकती है. आज मॉडर्न मेडिकल साइंस जिसको एलॉपथी चिकित्सा भी कहते है उन्होंने भी इसे माना है कि जीन्स पहनने से नपुंसकता आती है.

इस विडियो में विशाल भाई से सुनिए ये कितनी खतरनाक है >>

वैज्ञानिक कारण :- हमारे शरीर का तापमान 37 डिग्री सेंटीग्रेट होता है, और हमारे वीर्य में जो शुक्राणु होते है उनका तापमान इससे 2 डिग्री कम यानी 35 डिग्री सेंटीग्रेट होना चाहिए. तभी वो जीवित रह सकते है, अगर 35 से ज्यादा होता है तो वो नष्ट होने लगते है. इसलिए ही पुरुषों में अंडकोश को शरीर से बहार रखा गया है. ताकि हमारे शुक्राणु जीवित रह सके. लेकिन हमने क्या किया, विदेशी वेशभूषा अपना ली और टाइट कपडे पहनना शुरू कर दिया और हम वेशभूषा की गुलामी के शिकार हो गए. सोचो हमारे ऋषि मुनि कितने बड़े वैज्ञानिक थे जिन्होंने खोज की कि आप खुले और हवादार वस्त्र पहने जिसमे कुर्ता पजामा, धोती कुर्ता है. यानि कि हम भारतीय वेशभूषा में रहे. जिससे हमारे अंडकोश के आसपास का तापमान सामान्य रहे, शीतल रहे. आजकल क्या हो गया है कि लोगो ने बहुत टाइट कपडे पहनना शुरू कर दिया है. चड्डी (Underwear) भी बहुत टाइट पहनना शुरू कर दिया है.

इस सन्दर्भ में डॉक्टरो की रिपोर्ट है कि अगर आप टाइट जीन्स पहनते है तो एक दशक भर में आपके शुक्राणु (Sperm Count) 60 लाख शुक्राणु प्रति मिलीग्राम से से 10-15 लाख प्रति मिलीग्राम रह जाते है. अब आप सोचिये कि आपने जीन्स पहनकर अपने कितने शुक्राणओं का नुकसान किया है. यही बहुत बड़ी नपुंसकता का कारण बन रहा है.

अब आप सबसे आग्रह है कि मूल समस्या को समझिए और स्वदेशी की अवधारणा को जानिए, राजीव भाई ने पूरा जीवन इसी पर लगा दिया. अब अगर विदेशी कंपनी जीन्स बना रही है तो वो गलत है, और देशी बनाए तो वो सही, तो ये बिलकुल हो नहीं सकता. दोनों ही गलत है.

स्किनी जींस कूल्हे या पीठ दर्द जैसी समस्या का कारण बनती है। लोग भले ही स्किनी जींस को पहन कर अपने आप के पतला होने के बारे में सोचे लेकिन ये आप को कई खतरनाक बीमारियों को दावत देती है जैसा कि इस महिला के साथ हुआ

अभी हाल ही में ऑस्‍ट्रेलिया एक 35 वर्षीय महिला को टाइट जींस पहनना बड़ा मंहगा साबित हुआ। इस महिला ने अपने शरीर को पतला दिखाने के लिये काफी टाइट जींस पहनी और काफी लंबे समय तक पहने रहने के कारण पैरों में खून का प्रवाह होना कम हो गया पैरों में खून की सप्लाई रूक जाने से उसे झुनझुनी महसूस होने लगी पर इस बात को भी उसने नजरअदांज कर दिया लेकिन थोड़ी ही देर बाद वो बेहोश होकर गिर पड़ी उसे हॉस्पिटल ले जाया गया जहां महिला का शरीर शुन्य हो जाने की वजह से तुरंत ही उसके शरीर का ब्लड सर्कुलेशन कम होने लगा बाद में वो महिला चार दिन तक चलने की हालत में नही थी।

यह एक काफी गंभीर मामला है जिसको नजरअंदाज करना अपने लिये कई खतरनाक बीमारियो को दावत देने के बराबर है। ज्यादा टाइट कपड़े पहनने से आपके मूत्र मार्ग में संक्रमण पैदा होता हैं । पुरुषों के लिये भी टाइट जींस हानिकारक हो सकती है। इससे उनके अंडकोष की विकृति हो सकती है। फिटिंग जींस पहनने से उनके अंडकोष तक होने वाला रक्‍त संचार रूक सकता है और अंडकोष का कार्य रूक सकता है।

जींस पहनने से आप बीमारियों के भी शिकार हो सकते हैं? जैसे

1- कई बार लोग फैशन में आकर टाइट फिटिंग वाली जींस, स्कर्ट्स और ऐसे ही दूसरे ड्रेसेज पहन तो लेते लेकिन उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस तरह की ड्रेस से न सिर्फ आपको चलने-फिरने में परेशानी हो सकती है, बल्कि इनसे आपका पॉश्चर भी बिगड़ने की आशंका रहती है।

2- टाइट जींस पहनने से आपको उठने-बैठने में दिक्कत आ सकती है जिससे आपकी रीढ़ की हड्डियों में भी एफेक्ट हो सकता है।

3- ध्यान रहें, दिन भर टाइट जींस पहनने से आपका बॉडी का शेप भी खराब हो सकता है। यही नहीं, ऐसे कपड़े पहनने से आप असहज भी महसूस करने लगते हैं।

4- आपको बता दें कि टाइट जींस से आपको सिर दर्द, शरीर दर्द जैसी समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है।

5- जींस से स्किन प्रॉब्लम भी हो सकती है। बॉडी आपकी बहुत ही सख्त हो जाती है जब आप फीटेड टाइट जींस पहनते हैं जिससे ब्लड सकरुलेशन और नर्वस सिस्टम भी प्रभावित हो सकती है। यही नहीं, स्किनी जींस बहुत लंबे समय तक आपको बॉडी के स्किन से चिपकी होती है, जिस कारण पसीना पूरी तरह से सूख नहीं पाता और स्कीन रिलेटेड कई बीमारियां आपको अपना शिकार बना सकती है।

6- टाइट डींस की वजह से आपको स्किन इरिटेशन और फंगस इंफेक्शन की शिकायत भी हो सकती है। इतना ही नहीं, ऐसे में चर्म रोग होने का खतरा बहुत ज्यादा होता है।

7- टाइट फीटेड स्किनी जींस पहनने से अकसर त्वचा की नमी गुम हो जाती है, जिस कारण आपको खुजली और रेड रैशेस हो जाते हैं। वहीं त्वचा संक्रमण का होना भी कोई आम बात नहीं।

8- यदि आप वर्क आउट जाने की सोच रही है तो इसके लिये आप स्किन टाइट जींस का चुनाव कतई ना करें क्योकि जॉगिग के समय हमें कई शारीरिक गतिविधि करनी पड़ती है बार बार उठना बैठना या पैर का फैलाना जिससे हमारी जांघों की नसों पर दबाव पड़ता है और इससे पैरों में ब्लड सर्कुलेशन रूक जाता है और पैर के शुन्य होने से काफी परेशानी पैदा हो सकती है।

इस विडियो में Zee News की ये रिपोर्ट देखिए >>