इस त्यौहार को क्यों खाया जाता है बासी भोजन, जानिए वैज्ञानिक कारण

277

वागभट्ट जी कहते हैं कि कोई भी भोजन जो हम बनाते हैं 48 मिनट के अंदर उसका उपभोग हो जाना चाहिए रोटी बनी या चावल या डाल या खीर जो भी बनाएं उसे 48 मिनट में ही खा लें वागभट्ट जी गणित के बहुत बड़े वैज्ञानिक थे आयुर्वेदिक के चिकित्सक तो थे ही उन्होंने लिखा है 50 पल में खा लें यानी के 48 मिनट में

48 मिनट के बाद उसकी पोषकता कम होती जाएगी 2 घंटे बाद और कम हो जाएगी और 48 घंटे बाद तो खाने का कोई फायदा ही नही बासी हो जायेगा और बासी भोजन तो हमें जानवरों को भी नही देना चाहिए

वागभट्ट जी कहते हैं कि साल में 365 दिन होते हैं जिसमे से एक ही दिन आता हैं जिस दिन हम बासी भोजन खा सकते बाकि के 364 दिन नही खाना चाहिए और उस दिन की उन्होंने ऐसी कैलकुलेशन की है कि उस दिन शरीर के वात, पित्त और कफ की अवस्था ऐसी होती है कि उस दिन बासी भोजन ही किया जाता है उसी के आधार पर हमारे देश में एक त्योंहार मनाया जाता है जिसका नाम है बसोडा और जिस दिन जिस महीने में यह त्योंहार आता है वागभट्ट जी की कैलकुलेशन के हिसाब से भी वही दिन आता है इसी बात से पता चलता है कि भारत के हर त्योंहार के पीछे कोई न कोई वैज्ञानिक कारण होता है

वागभट्ट जी के अनुसार शरीर में तीन दोष हैं ये समान स्तिथि में रहे तो व्यक्ति स्वस्थ रहता है यदि एक भी दोष कम या ज्यादा हो जाये तो शरीर रोगी हो जाता है या रोग पैदा होते है तो एक ही दिन ऐसा आता है जिस दिन इन दोषों की स्तिथि विचित्र होती है यानी होनी नही चाहिए तो वागभट्ट जी कहते हैं की उस स्तिथि को काबू में लेन के लिए बासी खाना ही चाहिए ऐसा भोजन खाना चाहिए जिसकी पोषकता बिलकुल चली गयी हो उस दिन शरीर को बिलकुल भी प्रोटीन नही चाहिए तो बासी भोजन में प्रोटीन नही होता तो ऐसा भोजन खाना ही चाहिए उस दिन, और उसी दिन के लिए घरों में फ्रीज का इस्तेमाल होता है क्योंकि फ्रिज में रखा हुवा भोजन ही बासी होता है तो 364 दिन बिजली क्यों खर्च करें फ्रिज चलाकर

इस विडियो में देखिये >>