इस भारतीय लड़के ने देशी शौचालय में किया ऐसा बदलाव जिससे बुजुर्गो की जिंदगी हुई आसान

68

भारतीय शौचालय में बैठना हर किसी के लिए आसान नहीं होता है। वरिष्ठ नागरिक हों या युवा, सभी सबसे पहले पश्चिमी शौचालय पसंद करते हैं। कारण? एक भारतीय शौचालय में लंबे समय तक बैठना एक समस्या है, जबकि एक कुर्सी पर लंबे समय तक बैठना पश्चिमी शौचालय के समान है! पश्चिमी शैली के शौचालय बनाने वाले लोगों की बात हो रही है, देश की एक बहुत बड़ी आबादी को कुछ साल पहले तक शौचालय की आदत नहीं थी, पश्चिमी शैली के शौचालय तो दूर की बात है। वृद्ध लोगों को भारतीय शौचालयों का उपयोग करने में कठिनाई होती है। कभी-कभी वृद्ध लोग शौचालय जाना बंद कर देते हैं क्योंकि जोड़ों का दर्द उनके लिए सहन करने के लिए बहुत अधिक होता है।

सत्यजीत कहते हैं कि मैंने सबसे पहले समस्या की जाँच की, बूढ़े और बूढ़े लोगों को स्वास्थ्य, स्वच्छता, रखरखाव में समस्या थी और इससे वे आसानी से बैठ भी नहीं पाते थे। सबसे महत्वपूर्ण बात लोगों की शौचालय जाने की आदत को बदलना था। वह एक जवान आदमी की तरह नहीं बैठ सकता, बहुत पीछे रहता है और अपने पैर की उंगलियों पर बैठकर अपना संतुलन बनाए रखता है। शरीर का भार पंजों और पंजों पर पड़ने से उनका बैठना मुश्किल हो जाता है।

पैर की उंगलियों को पूरा वजन देने से अन्य समस्याएं हो सकती हैं और घुटनों पर भी असर पड़ सकता है। इससे पानी ज्यादा खर्च नहीं होता है। इस टॉयलेट में फुटरेस्ट थोड़ा ऊंचा है, इसलिए आपको किसी और तरीके से बैठने की जरूरत नहीं है। 2016 में सत्यजीत को स्क्वाट ईज का आइडिया आया। उन्हें भारत सरकार से प्रोटोटाइप अनुदान मिला और काम शुरू किया।

लोगों के घुटनों, जांघों और कूल्हों पर अधिक दबाव के साथ, सत्यजीत ने देसी शौचालय को फिर से डिजाइन किया। सत्यजीत का डिजाइन बुजुर्गों को काफी आराम और बैठने की आरामदायक सुविधा प्रदान करेगा। शौचालय की सतह ऊंची है ताकि लोग आसानी से अपनी पीठ, पैर की उंगलियों और घुटनों को समायोजित कर सकें और अच्छी तरह बैठ सकें।

सत्यजीत का दावा है कि नेत्रहीन भी इस शौचालय का उपयोग आसानी से कर सकते हैं। सत्यजीत ने कहा कि वह उन लोगों के पास गए जो अपने पैर की उंगलियों पर बैठते थे और शौचालय का इस्तेमाल स्क्वाट ईज पर चेक करने के लिए करते थे। और जो लोग पैर की उंगलियों के आधार पर शौचालय पर बैठते थे, उन्होंने भी इस शौचालय का परीक्षण किया था।

सत्यजीत ने आर्थोपेडिक विभाग में उत्पाद का परीक्षण किया। जिन लोगों ने घुटने के दर्द की शिकायत की थी उन्होंने इसका इस्तेमाल किया और परिणाम सकारात्मक रहा। यह शौचालय उन लोगों के लिए भी बहुत उपयुक्त था जो दीवार पर हाथ रखकर बैठे थे। इस शौचालय को बनाने में सत्यजीत को 2 साल 10 लाख रुपये का निवेश करना पड़ा था।

सत्यजीत कहते हैं, “2018 में, मैंने विश्व शौचालय संगठन, सिंगापुर के साथ सहयोग किया और अक्टूबर 2018 में इस शौचालय को बाजार में लाया। इस शौचालय की कीमत मात्र एक लाख रुपये है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत सत्यजीत को उनके नवाचारों के लिए क्लीन इनोवेशन 2018 का खिताब मिला। प्रयागराज कुंभ 2019 मेले में 5000 SquatEase लाकर रखा गया था।