कॉफी फायदा करती है या नुकसान? जानिए यहां

688

कुछ लोग कॉफी पीना हेल्थ के लिए फायदेमंद मानते हैं लेकिन कुछ लोग इसे नुकसानदायक बताते हैं. इसको लेकर कई सवाल उठते रहते हैं.

कॉफी फायदेमंद है या नुकसानदायक?

फूड एंड हेल्थ एक्सपर्ट रूपाली तिवारी के मुताबिक रोज 3-4 कप कॉफी पीना हेल्थ के लिए फायदेमंद है लेकिन इससे ज्यादा कॉफी पीने से कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स हो सकती हैं. कॉफी में कैफीन के अलावा काफी एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं. इनको सही मात्रा में लिया जाए तो ये फायदा करते हैं लेकिन ज्यादा मात्रा में कॉफी नुकसान भी कर सकती है.

फैट बर्निंग में हेल्पफुल – इसमें मौजूद कैफीन से मेटाबोलिज्म तेज होता है. कैलोरी और फैट तेजी से बर्न होता है.

बिमारियों और बुढ़ापे को रखे दूर – कॉफ़ी में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट होते है जो बिमारियों और बुढ़ापे को दूर रखते है.

पार्किसन्स डिजीज से बचाव – एक अमेरिकी रिसर्च के मुताबिक कॉफ़ी पीने से ब्रेन एक्टिव रहता है और पार्किसन्स डिजीज से बचाव होता है.

एनर्जी बूस्टर – कॉफ़ी में मौजूद कैफीन तुरंत एनर्जी देता है, जिससे ताजगी का अहसास होता है.

स्टैमिना बढता है – इससे ब्लड में एड्रेनालिन नमक होरमोन का लेवल बढ़ जाता है. ये फिजिकल स्टैमिना बढ़ने में मददगार है.

लीवर कैंसर से बचाव – इटली के मिलान में हुई रिसर्च के मुताबिक कॉफ़ी पीने से लीवर कैंसर जैसी बिमारियों से बचाव होता है.

स्ट्रोक का खतरा कम – इसमें मौजूद एंटी – ऑक्सीडेंटस और कैफीन ब्लड सर्कुलेशन प्रॉपर रखते है. इससे स्ट्रोक का खतरा कम होता है.

मूड अच्छा होता है – इससे सेरोटिन, डोपामाइन और नोराड्रेनालिन जैसे न्यूरोट्रांसमीटर्स का प्रोडक्शन बढ़ता है. इससे मूड अच्छा होता है.

ज्यादा कॉफ़ी पीने के नुक्सान

कैटोक्लोमाइंस और कार्टिसोल नामक स्ट्रेस होर्मोन्स बढ़ जाते है इसके कारण निराशा और तनाव बढ़ता है.

इन्सुलिन सेंसिटिविटी कम होती है. इससे ब्लड ग्लूकोज लेवल बढ़ता है. खून की नालियां कड़ी होने से हार्ट डिजीज का खतरा भी बढ़ जाता है.

बॉडी में डाइटरपीन्स नमक केमिकल्स रिलीज़ होते है जो ट्राइग्लिसराइड, एलडीएल और वीएलडीएल कोलेस्ट्रोल का लेवल बढ़ाते है.

बॉडी में कम ग्लूकोस अब्सोर्ब करने वाले क्लोरोजेनिक एसिड्स हार्ट डिजीज का रिस्क पैदा करते है. इससे मोटापा और डाइबिटीज की प्रॉब्लम भी हो सकती है.

इसमें मौजूद एसिड्स से इनडाइजेशन, सीने की जलन, एसिडिटी, कब्ज जैसी प्रॉब्लम हो सकती है.