जब कब्ज आती है तो अकेले नहीं आती देखिए किन किन रोगों को साथ लेकर आती है

13616

आयुर्वेद में ऐसा कहा गया है कि ये जो कोष्टबद्धता (कब्ज) है, जिसे  मलबद्धता भी कहा जाता है. यह दुनिया की सबसे खराब बीमारी है. जो एक बार अगर शरीर में आ जाए तो सेंकडो बिमारिओ को बुला लेती है. इसको मजाक में लेकिन गंभीरता में कहा जाता है कि मदर डिसीस (Mother Diseased) है. अगर ये आ गयी तो सब बीमारिया आने लगती है, इससे डायबटीज भी आयगा, घुटने भी दुखेगे, गैस भी बनेगी, अल्सर भी होगा, हार्ट अटैक भी आएगा, अनिद्रा की समस्या भी आयगी, तो मूल बात ये है कि अगर ये एक छोटी सी बीमारी (कब्ज) आपके शरीर में आई तो सेंकडो बीमारियाँ आयेगी इसलिए राजीव भाई ने पिछले विडियो में कहा था कि पानी हमेशा इतना गर्म पिए की आपका शरीर बर्दास्त कर पाए. हम अपने शरीर को अगर माप के देखे तापमान के रूप में तो शरीर का तापमान 37 डिग्री के अस पास होता है.

इस विडियो में देखिए >>

तो आयुर्वेद की व्यवस्था ये है कि जितना गर्म आपका शरीर है कम से कम उतना गर्म पानी तो जरुर पिए. लेकिन गर्मियो के दिन में जो आजकल चल रहा है मिटटी के घड़े का पानी आप पी सकते है. क्यूंकि मिटटी के घड़े में रखा पानी ठंडा नही मन जाता. जो सामान्य तापमान होता है उससे लगभग उससे 2 या 3 डिग्री ही कम होता है. लेकिन रेफ्रीजिरेटर फ्रिज का जो पानी है या बर्फ का पानी है, इसका तापमान बहुत कम होता है फ्रिज में रखा हुआ पानी का तापमान 4 या 5 डिग्री के आस पास पहुंच जाता है जो शरीर से बहुत ही कम है इसलिए आयुर्वेद में फ्रिज का पानी बर्फ डाला हुआ पानी निषेध है.

अगर आपका पेट साफ नही होता ठीक से नींद नहीं आती है. इसके लिए अजवाइन एक बहुत अच्छी दवा है. अगर घर में कच्चा अजवाइन है तो इसको आधा चम्मच ले और इसमें केवल गुड मिला ले, गुड और अन्ज्वैन दोनों मिलाके चबाके खाओ और पीछे से पानी पियो, ये काम आपको रात को सोते समय करना है, तो जब आप  सुबह उठोगे तो आपका एक ही बार मे पेट साफ हो जाएगा. अगर अजवाइन और गुड को रात में लेंगे तो आपको कब्जियत कभी नही होगी. ये पेट साफ़ करने की एक अच्छी दवा है. पेट साफ करने के लिए त्रिफला चूर्ण भी ले सकते है. त्रिफला चूर्ण आंवला, हरड और बेहडा से बनता है. रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला चूर्ण ले. इसे आप दूध से नही तो गर्म पानी से भी ले सकते है. ये भी पेट साफ करती है.

एक और मुफ्त का इलाज है पेट साफ करने का पानी को हमेशा घुट घुट करके पियो क्योकि घुट घुट करके पानी पिने से लार पानी के साथ मिलके अंदर जायगी और जितनी ज्यादा लार आपके पेट मे जायगी पेट उतना ही साफ होगा. तो इसीलिए या तो ज्यादा चबा के खाने की आदत डालो तो भी लार ज्यादा पेट मे जाएगी नहीं तो पानी को घुट घुट पीना शुरू करो तो इन सबसे पेट साफ होता है.

इस विडियो में देखिए कब्ज का इलाज >>