अगर आप अंधेरे में यूज करते हैं स्मार्टफोन तो हो सकती है ये प्रॉब्लम

511

अधिकतर लोग स्मार्टफोन का यूज करते हैं। लेकिन इनमें से कुछ ऐसे लोग हैं जो रात में सोने से पहले या अंधेरे में भी काफी देर तक स्मार्टफोन का पर काम करते हैं। इसका आंखों और ब्रेन पर काफी बुरा असर पड़ता है। इसको लेकर कई रिसर्च और स्टडीज भी हो चुकी हैं, जिनमें यह साबित हुआ है कि अंधेरे में स्मार्टफोन की स्क्रीन पर काम करना कितना खतरनाक है। इन्हीं रिसर्च और स्टडीज के आधार पर हम बता रहे हैं अंधेरे में स्मार्टफोन यूज करने के 9 साइड इफेक्ट्स।

आँखों की रौशनी में कमी- रात को सोने से पहले मोबाइल का उसे करने से आँखों के रेटिना पर बुरा असर पढ़ सकता है इससे आँखों की रौशनी कमजोर हो सकती है

नींद में कमी- रात में सोने से पहले मोबाइल का उसे करने से बॉडी में मेलाटोनिन होर्मोन का लेवल कम होने लगता है इसके कर्ण नींद देर से आने की प्रॉब्लम हो सकती है

स्ट्रेस बढेगा- देर रात तक मोबाइल का उसे करने से मेलाटोनिन होर्मोन का लेवल कम होता है इससे स्ट्रेस बढ़ सकता है

ब्रेन पर असर- देर रात तक मोबाइल का उसे करने से ब्रेन ट्यूमर का खतरा बढ़ सकता है इससे मेमोरी कमजोर हो सकती है

थकान- रात को ज्यादा देर तक मोबाइल का यूज करने से नींद पूरी नही हो पति है इससे दिनभर थकान फील होती है

ग्लूकोमा- देर रात तक मोबाइल का यूज करने से ब्रेन तक सिग्नल ले जाने वाली ऑप्टिक तंत्रिका पर बुरा असर पड़ता है इससे ग्लूकोमा(काले मोतिया) की प्रॉब्लम हो सकती है

फोकसिंग मसल्स पर असर- रात को लम्बे समय तक मोबाइल का यूज करने से आँखों की फोकसिंग मसल्स पर बुरा असर पड़ सकता है इससे किसी भी चीज पर फोकस करने में काफी दिक्कत होती है

आँखों में रेडनेस- रात को ज्यादा देर तक मोबाइल या टेबलेट यूज करने से इसकी रौशनी आँखों में रेडनेस की प्रोब्लेइम पैदा कर सकती है

डार्क सर्किल- देर रात तक मोबाइल का यूज करने से आँखों पर स्ट्रेस पड़ता है इससे डार्क सर्किल की प्रॉब्लम हो सकती है