जिसने कभी स्कूल का गेट तक नहीं देखा, उस किसान ने बना दी बिजली..

1710

कर्नाटक के एक किसान ने एक ऐसा वाटर मिल डिजाइन किया है जिससे बिजली बनाई जा सकती है। कर्नाटक के गडग जिले सोमपुर गांव के रहने वाले सिदप्पा हुलाजोगी इससे पहले टैक्टर की बैटरी का इस्तेमाल कर मोबाइल रिचार्ज करने वाली मशीन बना चुके हैं। वहीं सिदप्पा ने साइकिल के डायनेमो का इस्तेमाल कर टेप रिकॉर्डर भी बनाया था।.

करीब दस साल पहले की बात है जब सिदप्पा का घर रिमोट एरिया में था और हेसकॉम ने उनके घर में बिजली देने से इंकार कर दिया था। तभी उनके मन में बिजली बनाने का विचार आया था। लेकिन सिदप्पा के लिए ये आसान नहीं था, क्योंकि वो कभी स्कूल नहीं गए। उन्हें ना तो तकनीक का ज्ञान था और न ही वो विज्ञान के बारे में बहुत कुछ जानते थे, लेकिन सिदप्पा ने हिम्मत नहीं हारी और नारागन हिल्स पर पवन चक्की देखकर उन्हें इसे बनाने की प्रेरणा मिली।

 

उन्होंने पवन चक्की देखकर सोचा कि अगर वो इसकी नकल करके इसके जैसा प्रतिरूप बना ले तो बिजली पैदा कर सकते हैं। इसके बाद उन्होंने टिम्बर की मदद से वाटर मिल बनाई। सिदप्पा ने लकड़ी की मदद से बड़ी की चक्की बनाई, जिसमें 8 पंखे लगे थे। हर पंखा पांच फीट लंबा था। सभी पंखे आपस में एक सेंटर से जुड़े हुए थे। हर पंखे के आखिरी में एक प्लास्टिक की खाली बाल्टी लगी थी। जिसे एक कैनल में इंस्टॉल किया गया।

इसके बाद सिदप्पा ने चक्की के दो पंखों पर दो पाइप की मदद से पानी तेज धार के साथ फेंकना शुरू किया। तेज रफ्तार में पानी फेंकने का मकसद था कि वो चक्की में लगे पंखों को घुमा सके। पंखों में लगी बाल्टी जब ऊपर जाती तो अपने आप खाली होती जाती और नीचे आते ही पानी की रफ्तार से वो भरते हुए ऊपर की ओर जाती। इस प्रक्रिया से चक्की में गति आ गई और वो घूमने लगी।

सिदप्पा ने इस बड़ी चक्की को एक ऐसी ही छोटी चक्की से जोड़ दिया, जिसमें डायनेमो लगा हुआ था। बड़ी चक्की के घूमने की वजह से छोटी चक्की भी घूमती और उसमें लगा डायनेमो गति उर्जा को विद्धुत ऊर्जा में बदल लेता। डायनेमो इस डायरेक्ट करंट को प्रत्यावर्ती धारा में बदलकर उससे बिजली बनाई।

देखिए इस मॉडल में कि ये कैसे काम करता है >>