सोडा पीने वाला व्यक्ति मुर्ख से भी महामुर्ख है, कभी मत पीजिये सौड़ा

7567

दोस्तों आप हमारे ब्लॉग के रेगुलर रीडर है तो आपको पता ही होगा कि राजीव भाई अपने लेक्चर में हमें बताते रहते थे कि राजीव भाई हमें हमारे स्वास्थ्य से संबधित हर प्रकार की जानकारी देते थे. जैसे हमें क्या खाना चाहिए, क्या पीना चाहिए. और सब चीजो का टाइम भी बताते थे कि कब क्या खाना चाहिए क्या पीना चाहिए. आज हम बात करेंगे सोडा की. वही सोडा जिसे लोग शराब आदि में मिलाकर पीते है. और कुछ लोग डायरेक्ट भी पीते है इसे खारा भी कहा जाता है.

एक जगह महाराष्ट्र में राजीव भाई व्याख्यान दे रहे थे तो एक भाई ने सवाल कि सोडा पी सकते है क्या ? तो देखिए राजीव भाई ने क्या कहा.

राजीव भाई का उत्तर-  भैया सोडा तो आपको कभी भी पीना ही नही चाहिए. सोडा पीना तो बहुत ही खराब है सोडा मतलब ये कि कार्बन डाईऑक्साइड मिलाया हुआ पानी. आपको तो पता ही है कि हमारा शरीर ऑक्सीजन अंदर खिचता है और कार्बोन डाई ऑक्साइड बहार निकालता है, ये प्रोसेस 24 घंटे चलता है.  कार्बन डाई ऑक्साइड मतलब जहर, जिसे शरीर से बाहर निकलने की क्रिया शरीर हमेसा करता है. अब अगर आप सोडा यानि कार्बन डाई ऑक्साइड मिलाया हुआ पानी पिएंगे जिसे आपको बहार निकालना चाहिए तो आप मुर्ख से भी महा मुर्ख है.

अब कई लोगो का इसपर ये मत है कि गैस में सोडा पीते है. आप गैस की प्रॉब्लम को ठीक करिये. ये नही है कि गैस की प्रॉब्लम के लिए और गैस पी लीजिये. आप सिंपल वे में समझिए कि अगर आग लगी है तो आप और आग लगायेंगे या आग को शांत करेंगे. इसलिए अगर आपको गैस की प्रॉब्लम है तो आप उसको ठीक करिए, और गैस मत पीजिये .

सोडा पीना हमारे लिए हानिकारक है, हम सभी इस बात को जानते हैं। लेकिन किन कारणों से यह हमारे लिए घातक है, यह बात आपको जरूर जानना चाहिए…तो ये रहे सोडा न पीने के 15 कारण…

1- यह न केवल आपके दांतों में सड़न पैदा करता है बल्कि इसमें अत्यधिक मात्रा में मौजूद रिफाइंड शुगर, कैलोरी की मात्रा बढ़ाकर मोटापा बढ़ाने का काम करती है।

2- सिर्फ सोडा ही नहीं बल्कि ड्र‍िंकिंग सोडा जिस बॉटल या केन में बाजार में उपलब्ध है, वह भी हानिकारक है। इनमें टॉक्सिक केमिकल बिस्फेनॉल होता है, जो एक नहीं कई प्रकार की हेल्थ प्रॉब्लम्स को पैदा करता है।

3- इसमें बहुत अधिक मात्रा में शर्करा पाई जाती है। इसमें मौजूद 20 ऑन्स मात्रा ही लगभग 20 बड़े चम्मच शुगर के बराबर होती है।

4- अगर आप कैलोरी कम करने के लालच में डाइट सोडा लेना पसंद करते हैं, तो जान लीजिए कि यह आपके किडनी की कार्यक्षमता को कम करता है।

5- सोडा पीने की आदत लगना तो और भी खतनाक है। हर दिन ड्रिंकिंग सोडा का सेवन, आपके लिए डायबिटीज के खतरे को 25 प्रतिशत तक बढ़ा देता है।

6- 20 ऑन्स सोडा यानि 240 कैलोरी बर्न करने के लिए आपको हर बार सोडा पीने के बाद लगभग 1 घंटा पैदल चलने की जरूरत होती है।

7- सोडा में पाया जाने वाला फास्फोरिक एसिड आपकी हड्ड‍ियों में मौजूद कैल्सियम को चुरा लेता है। इतना ही नहीं यह हड्ड‍ियों के घनत्व को भी कम कर देता है।

8- रोजाना सोडा का प्रयोग, आपके मेटाबॉलिज्म में परिवर्तन करने में काफी हद तक प्रभावी होता है और वजन कम करना बेहद कठिन हो जाता है।

9- सोडा की अत्यधिक मात्रा या अधिक सेवन, अस्थमा एवं श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है, जिससे सांस संबंधी अन्य रोगों की संभावना बढ़ जाती है।

10- सोडा पीने से हृदय संबंधी समस्याओं की संभावना बढ़ जाती है। जिन लोगों को पहले से हृदय संबंधी समस्या है, उनके लिए यह और भी खतरनाक साबित हो सकता है।

11- ड्रिंकिंग सोडा लगातार आपके लिवर को प्रभावित करता है और यह लिवर के लिए उतना ही घातक होता है, जितना कि अल्कोहल। इसमें मौजूद फैटी लिवर एसिड बेहद घातक होता है।

12- डाइड सोडा वजन कम करने से ज्यादा वजन बढ़ाने में मददगार साबित होता है। इसका सेवन करने वाले लोगों में, सेवन न करने वाले लोगों की अपेक्षा मोटापे का खतरा अधिक होता है।

ड्रिंक में सोडा क्यों नहीं मिला कर कर पीना चाहिए :-

1- इसमे आर्टिफिशियल स्वीटनर पड़ा होता हैं, जिसकी कैलोरी बहुत ज़्यादा होती हैं। यह भूख को बढ़ाती हैं और इसे एक तरह के कैंसर को बढ़ावा देने के लिए बताया गया हैं।

2- इसमे मौज़ूद सोडियम, ब्लड प्रेशर को बढ़ा देता हैं और ब्लड प्रेशर के बढ़ने से हार्ट अटैक का खतरा होता हैं।

3- सोडा शरीर के लिए नुक़सानदायक हैं क्योंकि इसमे बहुत सी कैलोरी पाई जाती हैं। इसको पीने से मोटापा बढ़ सकता हैं और डायबिटीज का ख़तरा भी होता हैं।

4- सोडा इसलिए भी अच्छा नही हैं क्योंकि यह हड्डियो को भूर-भूरा बना देता हैं। ऐसा माना जाता हैं की सोडे में कुछ ऐसे एसिड पाए जाते हैं जो हड्डियो को मुलायम बना देते हैं और कैल्शियम की कमी कर देते हैं।

5- सोडा डिहाइड्रेशन को पैदा करता हैं। इसमे सोडियम की ज़्यादा मात्रा होने की वजह से डीहाइड्रेशन हो जाता हैं।