देशभक्तों को शहीदी दिवस के दिन वन्देमातरम बोलने से रोका गया, तिरंगा नहीं फिराने दिया गया

4190

दोस्तों राजीव दीक्षित जी की प्रेरणा से देश भक्त मित्रो ने 15 मार्च को भगत सिंह जी के गाँव से हरियाणा होते हुए दिल्ली इंडिया गेट तक 500 कि. मी. की साइकिल यात्रा निकाली थी, जो कल यानि 23 मार्च को दिल्ली पहुचनी थी. आप लोगो को तो शायद इस बारे में पता भी नहीं होगा क्योकि मीडिया ऐसी खबरे नहीं दिखाता. क्योकि ऐसे खबरों से देश के लोगो को अपने शहीदों के बारे में पता चलता है जिससे उनमे देश भक्ति पैदा होती है. मीडिया ये सब नही चाहता

गुलामी की निशानियों को मिटाना ही हमारा अंतिम लक्ष्य >>

यात्रा के संयोजक सुरेंद्र यादव ने गुलामी की निशानियों के खिलाफ विद्यार्थियों को संबोधित किया एवं शहीदों के सपनों को साकार करने हेतु जागरूक किया। सुरेंद्र कुमार ने बताया कि यात्रा शहीद भगत ¨सह, राजगुरु, सुखदेव के शहादत दिवस पर 500 किलोमीटर का सफर तय कर दिल्ली में इंडिया गेट पर पहुंची।

इस यात्रा का मुख्य उदेश्य आजादी के आंदोलन के महानायकों की प्रतिमा और स्मारक स्थापित करना था. लेकिन पुलिस प्रशासन द्वारा देशभक्तों के साथ बहुत बुरा व्यवहार किया गया जिसकी आपको भी उमीद नहीं होगी.यात्रा का मुख्य उद्देश्य युवाओं को शहीदों के प्रति जागरूक करने तथा देश में अंग्रेजी शासकों के नाम पर बने भवनों, संस्थानों व स्मारकों के नाम बदलकर शहीदों के नाम पर करने की मांग करना है।

इस विडियो में देखिए क्या हुआ था कल इंडिया गेट पर >>