ऐसा घर जिसका आंगन राजस्थान में तो 8 कमरे हरियाणा में, 10 कदम चलते ही मोबाइल में रोमिंग

885

राजस्थान और हरियाणा की सीमा पर एक घर ऐसा है, जिसकी जमीन दोनों राज्यों की सीमाओं में बंटी है। आंगन राजस्थान में है, तो घर के 8 कमरे हरियाणा में। घर का एक दरवाजा हरियाणा में खुलता है, दूसरा राजस्थान में। पानी के लिए नल राजस्थान की सीमा में लगा है। वहीं से पानी आता है। लेकिन राजस्थान से आने वाला ये पानी भरता है हरियाणा में रखी टंकी में। ये घर हरियाणा के रेवाड़ी जिले के धारूहेड़ा कस्बे और राजस्थान के भिवाड़ी की सीमा पर बना है। इस घर ही नहीं घरवालों के किरदार भी रोचक हैं।

यहां रह रहे चाचा-भतीजा दोनों नगर पार्षद हैं, वो भी अलग-अलग राज्यों के नगर निकायों के। चाचा कृष्ण दायमा हरियाणा की धारूहेड़ा नगर पालिका, जबकि भतीजा हवा सिंह दायमा राजस्थान के भिवाड़ी में पार्षद हैं। कृष्ण दायमा 2008 और 2014 में जबकि हवा सिंह दायमा 2009 और 2014 में लगातार दो बार चुनाव जीतकर अपने-अपने क्षेत्र से पार्षद बने हैं।

इस घर में हरियाणा और राजस्थान, दोनों राज्यों के मतदाता रह रहे हैं। कृष्ण दायमा के मुताबिक करीब एक दशक पहले उनका नाम राजस्थान की वोटिंग लिस्ट में था। 2008 में उन्होंने वहां से नाम हटवाकर हरियाणा में जुड़वा लिया। हवासिंह, उनकी पत्नी, माता-पिता व दादी के वोट राजस्थान में ही हैं। ये परिवार करीब 50 साल से यहां बसा है, लेकिन ये प्लॉट 1996 में खरीदा गया था। 5 हजार वर्गमीटर के इस प्लाट का करीब एक हजार वर्गमीटर हिस्सा हरियाणा में है।

10 कदम चलते ही मोबाइल में रोमिंग लग जाती है

घर में बिजली कनेक्शन भी दोनों राज्यों के हैं। मकान में राजस्थान की बिजली है और मकान से ही निकली दुकानों में हरियाणा की। मोबाइल नेटवर्क में तो घर वालों को खासी परेशानी उठानी पड़ती है। कृष्ण का कहना है कि घर के अंदर ही 10 कदम चलते ही फोन में रोमिंग लग जाती है। दिन में कभी मैसेज आता है कि राजस्थान के नेटवर्क में आपका स्वागत है, तो कभी हरियाणा के नेटवर्क में। घर की रसोई हरियाणा की सीमा में है, लेकिन चूल्हा आंगन में रखा गया है, जहां राजस्थान की सीमा लग जाती है।