ये 6 लक्षण बताते हैं कि आपके शरीर में Uric Acid का स्तर बढ़ चुका हैं

1187

क्या है यूरिक एसिड ?

जब किसी वजह से किडनी की फिल्टर यानि छानने की झमता कम हो जाती है तो यूरिया यूरिक एसिड में परिवर्तित हो जाता है जो हड्डियों के बीच में जमा हो जाता है। यूरिक एसिड शरीर के cells और उन चीजों से बनता जो हम खाते हैं। इसमें से यूरिक एसिड का ज्यादातर हिस्सा किडनियों के जरिए फिल्टर हो जाता है जो टॉयलेट के जरिए शरीर से बाहर आ जाता है, लेकिन अगर यूरिक एसिड शरीर में ज्यादा बन रहा है या किडनी फिल्टर नहीं कर पाती तो खून में यूरिक

एसिड का लेवल बढ़ जाता है। बाद में यह हड्डियों के बीच में जमा हो जाता है और इससे गाउट की समस्या पैदा हो जाती है।

यूरिक एसिड के बढ़ने से शरीर की मांसपेशियों में सूजन आ जाती है जिससे दर्द महसूस होता है और ये दर्द शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है (खासकर टखने में, कमर, गर्दन, घुटने आदि में)..इसी से बाद में गाउट, गठिया और आर्थराइटिस जैसी परेशानियां हो जाती हैं।

यूरिक एसिड के लक्षण

शुरुआत में यूरिक एसिड के बढ़ने का पता नहीं लग पाता। ज्यादातर लोगों को इस बात की जानकारी भी नहीं होती कि यूरिक एसिड के बढ़ने को कैसे पहचानें। कुछ लक्षण हैं जिन्हें देख आप पहचान सकते हैं कि यूरिक एसिड बढ़ रहा है –

■  जोड़ों में दर्द होना। उठने-बैठने में परेशानी होना।

■  उंगलियों में सूजन आ जाना

■  जोड़ों में गांठ की शिकायत होना

■  इसके अलावा पैरों और हाथों की उंगलियों में चुभन वाला दर्द होता है जो कई बार असहनीय हो जाता है।

■  इसमें आदमी ज्यादा जल्दी थक भी जाता है।

*नोट : ऊपर दिए गए लक्षण सामान्य बीमारी के भी हो सकते हैं इसलिए घबराएं नहीं, धैर्य से काम लें और अपने नजदीकी चिकित्सक से अवश्य परामर्श कर लें।

यूरिक एसिड बढ़ने पर क्या खाए

1. कोल्ड प्रेस्ड जैतून का तेल

खाना पकाने के लिए बटर या वेजटेबल आयल के स्थान पर कोल्ड प्रेस्ड जैतून के तेल का इस्तेमाल करें। जैतून के तेल के इस्तेमाल से शरीर में अतिरिक्त यूरिक एसिड नहीं बनता है ओलिव आयल में विटामिन ई प्रचुर मात्रा में होता हैं जो भोजन को न्यूट्रीएंट्स से भरपूर बनाता हैं और शरीर में यूरिक एसिड के लेवल को कम करने में मदद करता हैं।

2. फाइबर से भरपूर आहार ले

अगर आपके शरीर में लगातार यूरिक एसिड का स्तर बढ़ता चला जा रहा हैं तो अपने भोजन में फाइबर से भरपूर चीजों को शामिल करे। इसके लिए आप दलिया, ब्रोकली, चकुंदर, मूली, गाजर, खीरा आदि का सेवन करे, इससे बॉडी में यूरिक एसिड कण्ट्रोल में हो जाता हैं। सेब का सिरका, चेरी का रस, बेकिंग सोडा, सेब और निम्बू का रस अपनी डाइट में शामिल करे।

लहसुन, अदरक, ज़ीरा, सौंफ, धनिया, एलाईची, दालचीनी का इस्तेमाल अधिक मात्रा में करें.

3. विटामिन सी

भरपूर मात्रा में विटामिन सी लें। शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा को कम करने के लिए हर दिन कम से कम 500 मिलीग्राम विटामन सी लें। इसके सेवन से एक से दो महीने के भीतर ही यूरिक एसिड का स्तर काफी कम हो जाता है।

4. पानी

एक दिन में कम से कम 6-7 लीटर पानी पिएं। ज्यादा मात्रा में पानी पीने से हाई यूरिक एसिड का लेवल कम हो जायेगा, क्योंकि खून में मौजूद एक्स्ट्रा यूरिक एसिड पेशाब के जरिये शरीर से बाहर निकल जाता हैं। इसलिए हाई यूरिक एसिड लेवल ज्यादा होने पर दिन में कम से कम 2 से 3 लीटर आपको पानी पीना चाहिए।

यूरिक एसिड के बढ़ने से परेशान हैं तो न खाएं ये चीजें

खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाए तो सेहत संबंधी बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसका अगर समय पर इलाज न किया जाए तो जोड़ो में दर्द और सूजन होने लगती है। कई बार तो उम्र बढ़ने के साथ यह गठिए का रूप भी ले लेता है। यूरिक एसिड की समस्या से जूझ रहे हैं तो खान-पान में परहेज करके इस समस्या को बढ़ने से रोका जा सकता है।

यूरिक एसिड में न खाएं ये चीजें

1. नॉन वेज

नॉन वेज खाने से शरीर में यूरिक एसिड का मात्रा बढ़ जाती है। अगर यूरिक एसिड की परेशानी है तो नॉन वेज खाने से परहेज करें। इससे दवाइयों का असर भी नहीं होता।

2. बेकरी फूड

बेकरी में बनी चीजों में फूड प्रीडरवेटिव मिला होता है। जिससे यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ती है। केक, पैनकेक, पेस्‍ट्री

3. अण्डा

अण्डे में प्रोटीन और वसा भरपूर मात्रा में पाई जाती है और प्रोटीन खाने से यह समस्या और बढ़ जाती है।

4. चावल और साबुत दालें

चावल और साबूत दाले खाने से भी यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है और इससे जोड़ों में सूजन और दर्द की परेशानी बढ़ जाती है। चावल, पास्ता, अनाज, अंगूर

5. पैकेज्ड फूड

डिब्बा बंद खाने में कैमिक्ल मिले होते हैं जो यूरिक एसिड तेजी बढ़ाने में सहायक है। चिप्स,फ्रूट केक या ऐसी कोई भी चीज कम खाएं।

6. फास्ट फूड और पेय

फास्ट फूड और ठंड़े पेय पदार्थ पाचन प्रक्रिया को बिगाडते हैं,जिससे बॉडी में एसिड बनना शुरू हो जाता है।

7. अल्कोहल

शराब और बीयर जैसे पदार्थों का सेवन शरीर को रोगी बना देता है। इन चीजों के स्वन से यूरिक एसिड बढ़ जाता है और स्वस्थ्य को नुकसान पहुंचाता है।

8.दही, अचार, ड्राई फ्रूट्स और पालक बंद कर दे।

9. रात को सोते समय दूध का सेवन अत्यंत हानिकारक हैं।

10. मोटापा कम करे

मोटे लोगो में प्युरीन वाले खाद्य पदार्थ यूरिक एसिड लेवल को और भी ज्यादा बढ़ा देते हैं। लेकिन तेज़ी से वज़न कम करने के लिए जब आप ज्यादा डाइटिंग या उपवास करते हैं तो भी आपके शरीर में यूरिक एसिड लेवल बढ़ने लगता हैं। इसलिए आपको ऐसे तरीको से अपना वज़न कम करने की जरूरत हैं जिनसे आपको भूखे भी न रहना पड़े और वज़न भी कम हो जाये। वज़न को कण्ट्रोल में रख कर आप हाई यूरिक एसिड होने की समस्या से बच सकते हैं।

11. आपको बकरे का मीट, रेड वाइन, प्रोसेस्ड चीज, दाल, राजमा , समुंदरी भोजन, ऑर्गन मीट, सेम, गोभी, टमाटर, पालक, शतावरी, मटर, मशरूम आदि को ज्यादा नहीं खाना चाहिए। इन चीजों को ज्यादा मात्रा में सेवन करने से यूरिक एसिड बढ़ जाता हैं।

आयुर्वेदिक इलाज

1. तरबूज और दलिया जैसे पदार्थ भी इसमें सहायक होते है।

2. रोज़ रात में सोने के पूर्व 3 अखरोट खाये।

3. हाई यूरिक एसिड की शिकायत होने पर चेरी का सेवन फायदेमंद होता है। इसके सेवन से ब्‍लॉकेज खुल जाते है और यूरिक एसिड भी कम हो जाता है।

4. ब्रोकली में फाइबर भरपूर मात्रा में होते है। इसमें विटामिन सी भी काफी अच्‍छी मात्रा में पाया जाता है। इसे फूड चार्ट में अवश्‍य शामिल करें। इसके सेवन से शरीर यूरिक एसिड की मात्रा कम हो जाती है।

5. अजवाइन के बीज का अर्क

गठिया और यूरिक एसिड की समस्या का यह एक जानामाना प्राकृतिक उपचार है। जैसा कि अजवाइन में दर्द को कम करने, एंटीआक्सीडेंट और डाइयुरेटिक गुण पाया जाता है, ये एक एंटीसेप्टिक भी होता है। कई दुर्भल मामलों में नींद न आना, व्याग्रता और नर्वस ब्रेकडाउन आदि समस्याओं के उपचार में भी इसका उपयोग किया जाता है।

6. घृत कुमारी और आमले का रस रोज़ सेवन करना चाहिए.

7. नारियल पानी का सेवन भी नियमित रूप से करें.

8. जोड़ों पर हल्के कुनकुने तिल के तेल से हल्की मालिश करनी चाहिए.

9. सेब, गाजर और चुकंदर का जूस हर रोज़ पीने से बॉडी का pH लेवल बढ़ता है और यूरिक एसिड कम होता है।

10. 1 चम्मच अश्वगंधा पाउडर में 1 चम्मच शहद मिलाकर 1 गिलास गुनगुने दूध के साथ पिएँ।