हर रोज 1 चमच मेथी दाना इस तरीके से ले, बहुत सी बीमारी में करेगा असर

12357

भारतीय खाद्य मसालों में से एक मेथी दाने को तो आप सभी जानते है। इसकी खुशबु और इसके स्वाद के तो क्या कहने। लेकिन केवल मेथी का स्वाद लिया जाये वो थोड़ी कड़वी होती है। आज से नहीं बल्कि कई हज़ार वर्षो से मेथी का प्रयोग भारतीय रसोईघर में किया जाता आ रहा है। सामान्य रूप से सब्जी। कढ़ी और दाल को अलग जायका देने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है। प्रोटीन और विटमिन्स के अतिरिक्त इसमें Fiber, VItamin C, Niacin, Potassium, Iron और  Alkaloid पाए जाते है

मेथीदाना मानव शरीर के लिए फायदेमंद होने के साथ-साथ उसकी त्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद होते है। मेथी दानों का यूज आमतौर पर मसाले के रूप में किया जाता है। लेकिन इसमें मौजूद प्रोटीन, विटामिन्स और पोटैशियम कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स को कंट्रोल करने में हेल्प करते हैं। अगर हम रेग्युलर अपनी डाइट में एक चम्मच मेथीदाने का यूज करते हैं तो कई बीमारियों से बच सकते हैं।

वजन घटाए : मेथीदाने में फाइबर पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है. इसे रेग्युलर डाइट में शामिल करने से वजन घटाने में हेल्प मिलती है.

सर्दी-खासी : मेथीदाने में मौजूद एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी वायरल फीवर से बचाती है.

कैंसर : मेथीदाने में मौजूद फाइबर बॉडी से टोक्सिंस बाहर निकालते है. इससे कोलोन कैंसर का खतरा टलता है.

हल्दी स्किन : मेथीदाने में एंटीओक्सिडेंटस पर्याप्त मात्रा में पाए जाते है. ये स्किन को हेल्दी रखने में मदद करते है.

कब्ज़ :  रेग्युलर सुबह खाली पेट मैथीदाने खाने से डाइजेशन बेहतर होता है. जिससे कब्ज़ की प्रॉब्लम दूर होती है.

हाई BP : मेथीदाने में मौजूद पोटैशियम ब्लड सेकुलेशन को बेहतर बनाता है. इससे हाई BP की प्रॉब्लम कंट्रोल होती है.

एसिडिटी : मेथीदाने खाने से बॉडी का एसिड लेवल मेंटेन रहता है. इससे एसिडिटी की प्रॉब्लम दूर होती है.

हेल्दी हार्ट : मेथीदाने में पोटैशियम काफी मात्रा में पाया जाता है. यह बॉडी में सोडियम के लेवल को कंट्रोल करता है, जिससे यह बॉडी में सोडियम के लेवल को कंट्रोल करता है, जिससे ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होती है और हार्ट हेल्दी रहता है.

डाइजेशन : मेथीदाने में भरपूर मात्रा में फाइबर और एंटीओक्सिडेंटस पाए जाते है. ये बॉडी के टोक्सिंस बाहर निकालते है जिससे डाइजेशन बेहतर रहता है.

डायबिटीज : मेथीदाने में मौजूद एमिनो एसिड बॉडी में इन्सुलिन लेवल को मेन्टेन रखता है. इससे डायबिटीज की आशंका कम होती है.