फर्टिलिटी कम होने की ये हैं 5 वजह, इस एक तरीके से बढ़ेगा स्पर्म काउंट

1572

फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए पुरुष कई तरह के उपाय करते हैं. लेकिन कई बार ये सारे उपाय भी कुछ बीमारियों की वजह से कारगर साबित नहीं होते हैं. इनफर्टिलिटी एक्सपर्ट डॉ. रणधीर सिंह बता रहे हैं किन 5 बीमारियों में फर्टिलिटी कम होती है. समय रहते इन बीमारियों का इलाज करने से स्पर्म की क्वालिटी और क्वांटिटी दोनों इम्प्रूव होती है. साथ ही एम पी बिड़ला हॉस्पिटल की चीफ डाइटीशियन से जानिए फर्टिलिटी इम्प्रूव करने की एक टिप.

क्यों कम होती है फर्टिलिटी?

स्ट्रेस और टेंशन के कारण बॉडी में कुछ हानिकारक हॉर्मोन रिलीज होते हैं जो स्पर्म काउंट कम करते हैं.

नशा और स्मोकिंग करने से – स्मोकिंग करने या शराब पीने से बॉडी में Reactive Oxygen Species का लेवल बढ़ जाता है और स्पर्म काउंट कम होने लगता है.

गैजेट्स का ज्यादा यूज करने से – मोबाइल, लैपटॉप जैसे गैजेट्स के रेडिएशन और गर्मी के कारण स्पर्म काउंट घटने लगता है. इससे स्पर्म की क्वालिटी पर नेगेटिव इफेक्ट होता है.

अनहेल्दी फूड खाने से – ज्यादा जंक या प्रोसेस्ड फूड, ऑयली और फैटी फूड खाने से बॉडी में टॉक्सिन्स बढ़ते हैं. इससे फर्टिलिटी कम होती है.

लेट नाइट पार्टीज से – देर रात तक चलने वाली पार्टीज में नशा, अनहेल्दी ईटिंग के अलावा देर तक जागना होता है. इससे फर्टिलिटी कमजोर हो सकती है.

ट्यूमर – इससे मेल रिप्रोडक्टिव ऑर्गन पर नेगेटिव इफ़ेक्ट होता है इससे फर्टिलिटी कम होती है.

कैंसर – इससे स्पर्म काउंट कम होते है. इनफर्टिलिटी की प्रॉब्लम बढती है.

थाइरोइड – इससे इरेकटाइल डिसइन्फेक्शन की प्रॉब्लम हो सकती है. इसका नेगेटिव असर फर्टिलिटी पर होता है.

डाइबिटिज – इससे टेस्टोरोन होरमोन का लेवल कम होता है. फर्टिलिटी से रिलेटेड प्रॉब्लम बढती है.

मोटापा – ज्यादा मोटापा या दुबलेपन की वजह से स्पर्म प्रोडक्शन कम होता है. इससे फर्टिलिटी रिलेटेड प्रोब्लेम बढती है.

 

फर्टिलिटी बढाने का नुख्सा –

रोज अनार खाएं. चाहें तो इसका जूस पी सकते हैं इससे फर्टिलिटी इम्प्रूव होती है. अनार में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट बॉडी में टेस्टेरोन होरमोन का लेवल बढ़ाते हैं. इससे स्पर्म काउंट और सिमेन वॉल्यूम दोनों बढ़ते है.

चुना – नियमित पानी में गेहूं के दाने जितना चुना मिलाकर पीने से भी स्पर्म काउंट बढ़ता है लेकिन ध्यान रहे जिनको पथरी की शिकायत हो वो चुने का उपयोग  न करें.